Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2017 · 1 min read

शादियाँ

लोग़ कहते हैं……
जिसकी जहां लिखी होती है,
वहीं होती है शादियां..
जोड़ियां ऊपर ही तय होती हैं,
ऊपर वाला ही तय करता है.!
तो फ़िर #अधिकांशतः ये जोड़ियां …
एक ही जाति
एक ही आयु वर्ग
एक ही आय वर्ग
एक ही क्षेत्र
एक ही राज्य
एक ही देश


में ही क्यों बनायी जाती हैं……!

और यदि ऊपर वाला ही जोड़ियां बनाता है ..
तो टूटती क्यों हैं, शादियां….

क्या ऊपर वाला लोगों को बाटता है..
या लोग़ ही ऊपरवाले को बाँट दिए हैं..!

क्या ईश्वर क्षेत्रवादी और जातिवादी है….
या फिर….
जातिवादियों ने ही ईश्वर का निर्माण किया है…!

©Veerendra Krishna

Language: Hindi
339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गीत.......✍️
गीत.......✍️
SZUBAIR KHAN KHAN
क्या छिपा रहे हो
क्या छिपा रहे हो
Ritu Asooja
वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
शेखर सिंह
प्रभु श्री राम आयेंगे
प्रभु श्री राम आयेंगे
Santosh kumar Miri
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
Sanjay ' शून्य'
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
लोग बस दिखाते है यदि वो बस करते तो एक दिन वो खुद अपने मंज़िल
Rj Anand Prajapati
मैंने खुद की सोच में
मैंने खुद की सोच में
Vaishaligoel
संगीत................... जीवन है
संगीत................... जीवन है
Neeraj Agarwal
When you become conscious of the nature of God in you, your
When you become conscious of the nature of God in you, your
पूर्वार्थ
"कलम की ताकत"
Dr. Kishan tandon kranti
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
23/210. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/210. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों को निभा
रिश्तों को निभा
Dr fauzia Naseem shad
-- मौत का मंजर --
-- मौत का मंजर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
माँ मेरी जादूगर थी,
माँ मेरी जादूगर थी,
Shweta Soni
मुस्कान
मुस्कान
Surya Barman
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
क्या....
क्या....
हिमांशु Kulshrestha
मेरा बचपन
मेरा बचपन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
🙅ताज़ा सलाह🙅
🙅ताज़ा सलाह🙅
*प्रणय प्रभात*
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
पत्थर (कविता)
पत्थर (कविता)
Pankaj Bindas
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
Loading...