Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

शांत सा जीवन

शान्त सा जीवन जी कर देखो ।
हंस कर क्रोध को पी कर देखो ।।

रब को अपना करके देखो
उसकी इच्छा से जी कर देखो ।।

जीवन कितना शेष है इनमें ।
हर क्षण को तुम जी कर देखो ।।

चाहें सुख हो चाहें दुःख हो ।
भाव सभी तुम जी कर देखो ।।

हाथ तुम्हारे कुछ आ जाये ।
समय के पन्नों को सी कर देखो ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
7 Likes · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
नेताजी का रक्तदान
नेताजी का रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्री भूकन शरण आर्य
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
Keshav kishor Kumar
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
How to say!
How to say!
Bidyadhar Mantry
खींचातानी  कर   रहे, सारे  नेता लोग
खींचातानी कर रहे, सारे नेता लोग
Dr Archana Gupta
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
2861.*पूर्णिका*
2861.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
manjula chauhan
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
संकट..
संकट..
Sushmita Singh
"तुर्रम खान"
Dr. Kishan tandon kranti
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
बेटा…..
बेटा…..
Dr. Mahesh Kumawat
दूब घास गणपति
दूब घास गणपति
Neelam Sharma
नए वर्ष की इस पावन बेला में
नए वर्ष की इस पावन बेला में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
चल सतगुर के द्वार
चल सतगुर के द्वार
Satish Srijan
ज़िंदगी मायने बदल देगी
ज़िंदगी मायने बदल देगी
Dr fauzia Naseem shad
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
जा रहा है
जा रहा है
Mahendra Narayan
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
Anand Kumar
बचपन,
बचपन, "बूढ़ा " हो गया था,
Nitesh Kumar Srivastava
हादसे पैदा कर
हादसे पैदा कर
Shekhar Chandra Mitra
काम क्रोध मद लोभ के,
काम क्रोध मद लोभ के,
sushil sarna
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
हम जैसे बरबाद ही,
हम जैसे बरबाद ही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
Loading...