Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

शहीद दिवस

कैसे लिखूं मै कलम से,शहीदों की कुर्बानी।
देश हित में भूल गए थे,अपनी ही जिंदगानी।।

आजादी के दीवाने थे,वतन से करते थे प्यार।
देश की आजादी के लिए रखते थे वे हथियार।।

अंग्रेजो को जगाने के लिए किया था विस्फोट।
लगाई थी अपने प्रयासों की गोरो पर गहरी चोट।।

सरकारी फाइलों में अब भी उनका आतंकी नाम।
अब तो भारत स्वतंत्र है,हटाओ अब आतंकी नाम।।

देश के खातिर सब कुछ किया था उन्होंने कुर्बान।
उनके कारण ही बना है,भारत एक देश महान।।

भगत सुखदेव राजगुरु ने दी थी अपनी कुर्बानी।
कैसे सुनाऊं भारत के शहीदों की अमर कहानी।।

कैसे लिखूं कलम से,शब्द मिलते नही अनुकूल।
हंसते हंसते फंदा ऐसा चूमा जैसे कोई हो फूल।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
1 Like · 3 Comments · 336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
कवि रमेशराज
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
लिखा नहीं था नसीब में, अपना मिलन
gurudeenverma198
साक्षात्कार स्वयं का
साक्षात्कार स्वयं का
Pratibha Pandey
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मन में मदिरा पाप की,
मन में मदिरा पाप की,
sushil sarna
शिकवा नहीं मुझे किसी से
शिकवा नहीं मुझे किसी से
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बेशक प्यार तुमसे था, है ,और शायद  हमेशा रहे।
बेशक प्यार तुमसे था, है ,और शायद हमेशा रहे।
Vishal babu (vishu)
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
यदि हर कोई आपसे खुश है,
यदि हर कोई आपसे खुश है,
नेताम आर सी
सत्संग की ओर
सत्संग की ओर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरा नाम
मेरा नाम
Yash mehra
2758. *पूर्णिका*
2758. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
क्या चरित्र क्या चेहरा देखें क्या बतलाएं चाल?
क्या चरित्र क्या चेहरा देखें क्या बतलाएं चाल?
*प्रणय प्रभात*
दस्तूर ए जिंदगी
दस्तूर ए जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
डॉ० रोहित कौशिक
"संकल्प-शक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
ऐ सूरज तू अपनी ताप को अब कम कर दे
ऐ सूरज तू अपनी ताप को अब कम कर दे
Keshav kishor Kumar
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
नया ट्रैफिक-प्लान (बाल कविता)
Ravi Prakash
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU
Window Seat
Window Seat
R. H. SRIDEVI
Loading...