Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2019 · 1 min read

शब्दों को गुनगुनाने दें

शब्द गुनगुनाते
और रोते भी हैं,
इन्हें सिसकते भी देखा गया है।
गुनगुनाते हैं यह,
देवालयों की पवित्र सीढ़ियों पर ।
मंद-मंद मुस्कुराते हैं,
मस्जिदों के मुंडेर पर।
चहकते हैं,
गुरुद्वारे की पंगतो में।
और हाँ,
चर्च की गलियारों में
मोमबत्तियों की लौ पर,
इठलाते भी हैं,
यह बंजारे, बहुरूपिए शब्द।
गांव की पगडंडियाँ पकड़
विचार क्रांति भी करते हैं
देशज बन यह शब्द।
क्रांति और परिवर्तन की आश लिए
धीरे-धीरे महानगरों की चकाचौंध में
अथक दौड़ते भी हैं
यही शब्द।
और महानगरों की चकाचौंध,
इन्हें लीलने लगती है,
और धीरे-धीरे
मरने भी लगते हैं शब्द।
इन शब्दों को मरने न दें
यह आपके सगे हैं
इन्हें जीवंत बनाएं
अपने नव प्रयोग से
हाँ,
इन्हें गुनगुनाने दें
अपनी चौखट पर।

Language: Hindi
5 Likes · 3 Comments · 704 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
View all
You may also like:
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
"एजेंट" को "अभिकर्ता" इसलिए, कहा जाने लगा है, क्योंकि "दलाल"
*प्रणय प्रभात*
कुछ दुआ की जाए।
कुछ दुआ की जाए।
Taj Mohammad
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उलझनें रूकती नहीं,
उलझनें रूकती नहीं,
Sunil Maheshwari
That poem
That poem
Bidyadhar Mantry
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
आज का दिन
आज का दिन
Punam Pande
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shweta Soni
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जून की कड़ी दुपहरी
जून की कड़ी दुपहरी
Awadhesh Singh
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
विजय द्वार (कविता)
विजय द्वार (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
Ravi Betulwala
कुछ भी भूलती नहीं मैं,
कुछ भी भूलती नहीं मैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नारी तू नारायणी
नारी तू नारायणी
Dr.Pratibha Prakash
बुंदेली_मुकरियाँ
बुंदेली_मुकरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक स्त्री चाहे वह किसी की सास हो सहेली हो जेठानी हो देवरानी
एक स्त्री चाहे वह किसी की सास हो सहेली हो जेठानी हो देवरानी
Pankaj Kushwaha
ब्याहता
ब्याहता
Dr. Kishan tandon kranti
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
Loading...