Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

शंगोल

अब ज्योत नही,इक ज्वाल जगी है!
घर से संसद तक सनातन संस्कृति,
वसुधैव कुटुम्बकम मशाल लगी है!!
नव संसद भवन मे शंगोल स्थापित,
कर हिदू संस्कृति विशाल जगी है!!
बारम्बार कर प्रणाम नही हम थकते,
तुष्टीकरण अनुयायियो आग लगी है!!
आओ ले संकल्प भारत नव निर्माण,
पुनःइतिहास जागृत ज्वाल जगी है!!

सर्वाधिकार सुरछित मौलिक रचना
बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202नीरव निकुज,सिकंदरा,आगरा=282007
मो:9412443093

Language: Hindi
367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
■ दिवस विशेष तो विचार भी विशेष।
■ दिवस विशेष तो विचार भी विशेष।
*Author प्रणय प्रभात*
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्ती
दोस्ती
राजेश बन्छोर
प्रस्फुटन
प्रस्फुटन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
👗कैना👗
👗कैना👗
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
दो सहोदर
दो सहोदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सुप्रभात
सुप्रभात
Seema Verma
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
बचपन में थे सवा शेर
बचपन में थे सवा शेर
VINOD CHAUHAN
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
गीत
गीत
दुष्यन्त 'बाबा'
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
बात हमको है बतानी तो ध्यान हो !
बात हमको है बतानी तो ध्यान हो !
DrLakshman Jha Parimal
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
Dr Archana Gupta
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
*ठेला (बाल कविता)*
*ठेला (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
कचनार kachanar
कचनार kachanar
Mohan Pandey
वक्त निकल जाने के बाद.....
वक्त निकल जाने के बाद.....
ओसमणी साहू 'ओश'
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
सेल्फी या सेल्फिश
सेल्फी या सेल्फिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
कवि दीपक बवेजा
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...