Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 25, 2016 · 1 min read

वक़्त

घड़ी की टिक-टिक करके
बढ़ती सुइंयाँ कर जाती हैं इशारा…
पल भर में देखना चाहते हो जितना…
देख लो उतना…
क्यूंकि अगला पल
मैंने किसी और के नाम कर रखा है…
और तुमको बक्शी है
मात्र बुलबुले की ज़िन्दगी….
क्या तुमको भरम है……?

सुनील पुष्करणा

1 Like · 170 Views
You may also like:
✍️झूठा सच✍️
"अशांत" शेखर
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कल्पना
Anamika Singh
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
परिंदों सा।
Taj Mohammad
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वसंत का संदेश
Anamika Singh
In my Life.
Taj Mohammad
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
बारिश हमसे रूढ़ गई
Dr. Alpa H. Amin
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
वो कहना ही भूल गया
"अशांत" शेखर
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
मां ने।
Taj Mohammad
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां की पुण्यतिथि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
Loading...