Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Aug 2016 · 1 min read

वक़्त था गुजर गया दौर आना अभी बाकी है

लहर थी गुज़र गयी
सैलाब आना बाकी है

बिखरे हैं टूटकर
जितनी दफा टुकड़े
हर एक को वजूद
मिलना अभी बाकि है
हवा थी गुज़र गयी
तूफ़ान आना अभी बाकी है

वक़्त था गुजर गया
दौर आना अभी बाकी है

463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Yashvardhan Goel
View all
You may also like:
ज़माना साथ था कल तक तो लगता था अधूरा हूँ।
ज़माना साथ था कल तक तो लगता था अधूरा हूँ।
*प्रणय प्रभात*
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
स्त्री की स्वतंत्रता
स्त्री की स्वतंत्रता
Sunil Maheshwari
मैं राम का दीवाना
मैं राम का दीवाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हौसला अगर बुलंद हो
हौसला अगर बुलंद हो
Paras Nath Jha
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
"लाल गुलाब"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
नवरात्रि - गीत
नवरात्रि - गीत
Neeraj Agarwal
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
कवि रमेशराज
ग़ज़ल _ सयासत की हवेली पर ।
ग़ज़ल _ सयासत की हवेली पर ।
Neelofar Khan
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
तू ठहर जा मेरे पास, सिर्फ आज की रात
gurudeenverma198
"फ़िर से आज तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
डॉक्टर रागिनी
करवा चौथ
करवा चौथ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आप क्या समझते है जनाब
आप क्या समझते है जनाब
शेखर सिंह
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
अरे ! पिछे मुडकर मत देख
अरे ! पिछे मुडकर मत देख
VINOD CHAUHAN
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
आस्था होने लगी अंधी है
आस्था होने लगी अंधी है
पूर्वार्थ
करार दे
करार दे
SHAMA PARVEEN
2986.*पूर्णिका*
2986.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बीमारी जिसको हुई, उसका बंटाधार (कुंडलिया)*
*बीमारी जिसको हुई, उसका बंटाधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...