Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 4, 2016 · 1 min read

व्यथा

सूखे पत्तोँ की तरह बिखरा हुआ था मैँ, किसी ने समेटा भी तो केवल जलाने के लिए।

1 Like · 1 Comment · 235 Views
You may also like:
बेबसी
Varsha Chaurasiya
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
✍️✍️बूद✍️✍️
"अशांत" शेखर
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
*जो हुकुम सरकार (गीतिका)*
Ravi Prakash
खयाल बन के।
Taj Mohammad
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
इश्क था मेरा।
Taj Mohammad
राफेल विमान
jaswant Lakhara
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
"अशांत" शेखर
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आखिर क्यों... ऐसा होता हैं 
Dr. Alpa H. Amin
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
कहाँ तुम पौन हो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
# हे राम ...
Chinta netam " मन "
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...