Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2024 · 1 min read

व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक

व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपके सोच ( विचारधारा) और मस्तिष्क का ब्रह्मांड है।
RJ Anand Prajapati

70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
Khaimsingh Saini
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
*देहातों में हैं सजग, मतदाता भरपूर (कुंडलिया)*
*देहातों में हैं सजग, मतदाता भरपूर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
पूर्वार्थ
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
"अमर रहे गणतंत्र" (26 जनवरी 2024 पर विशेष)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
... बीते लम्हे
... बीते लम्हे
Naushaba Suriya
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
Kirti Aphale
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
😊न्यूज़ वर्ल्ड😊
😊न्यूज़ वर्ल्ड😊
*Author प्रणय प्रभात*
वो अनजाना शहर
वो अनजाना शहर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सच्ची होली
सच्ची होली
Mukesh Kumar Rishi Verma
नारी सम्मान
नारी सम्मान
Sanjay ' शून्य'
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
कवि दीपक बवेजा
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
*
*"जन्मदिन की शुभकामनायें"*
Shashi kala vyas
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
Mohan Pandey
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"अकेला"
Dr. Kishan tandon kranti
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
Rituraj shivem verma
बाल मन
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
Loading...