Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

व्यंग्य क्षणिकाएं

अनकही

1.
बरसों से यह मकान
खुला नहीं है
चाट गई दीमक,कोई
मिला नहीं है।।
2.
संबंध कपूर है
आरती तक जला
फिर काफ़ूर है।।
3.
बहुत दिनों से कोई
राग न छेड़ा तुमने
हल हो गये मुद्दे, या
माद्दा नहीं रहा।।
4.
माथे की बिंदी भी
कितनी बदल गई
गोल गोल चाँद थी
बिंदु बिंदु ढल गई।।

5.
खाली हैं दीवारों दर
कोने में पड़े हैं पूर्वज
खूबसूरती के कितने
अब मायने बदल गये।।

सूर्यकान्त द्विवेदी

Language: Hindi
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#गजल
#गजल
*Author प्रणय प्रभात*
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
हम रंगों से सजे है
हम रंगों से सजे है
'अशांत' शेखर
कैसी है ये जिंदगी
कैसी है ये जिंदगी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*वशिष्ठ (कुंडलिया)*
*वशिष्ठ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जब ऐसा लगे कि
जब ऐसा लगे कि
Nanki Patre
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
जाति बनाम जातिवाद।
जाति बनाम जातिवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे बुद्ध महान !
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
Kitna mushkil hota hai jab safar me koi sath nhi hota.
Kitna mushkil hota hai jab safar me koi sath nhi hota.
Sakshi Tripathi
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/39.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
सभी मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
सभी मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
surenderpal vaidya
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
💐प्रेम कौतुक-277💐
💐प्रेम कौतुक-277💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
यादों में ज़िंदगी को
यादों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
जीनगी हो गइल कांट
जीनगी हो गइल कांट
Dhirendra Panchal
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
Loading...