Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2016 · 1 min read

वो ग़ाफ़िल को ताने सुनाने चले हैं

बताओ जी क्या क्या बनाने चले हैं
अदब के जो याँ कारख़ाने चले हैं

जो हों कानफाड़ू जँचें बस नज़र को
अब ऐसी ही ख़ूबी के गाने चले हैं

न जिनको हुनर है बजाने का ढोलक
सितम है वो हमको नचाने चले हैं

जब आने लगी दिल से बदबू तो देखो
जनाब आज उसको लुटाने चले हैं

चले तो सही तीर नज़रों के उनके
भले मेरे दिल के बहाने चले हैं

नहीं रेंगता जूँ है कानों पे जिनके
वो ग़ाफ़िल को ताने सुनाने चले हैं

-‘ग़ाफ़िल’

257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"चलना और रुकना"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुम क्या चाहते हो
तुम क्या चाहते हो
gurudeenverma198
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
जिंदगी के वास्ते
जिंदगी के वास्ते
Surinder blackpen
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
GOOD EVENING....…
GOOD EVENING....…
Neeraj Agarwal
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
कवि दीपक बवेजा
गरीब और बुलडोजर
गरीब और बुलडोजर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
मेरी गोद में सो जाओ
मेरी गोद में सो जाओ
Buddha Prakash
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दर्द अपना संवार
दर्द अपना संवार
Dr fauzia Naseem shad
#साहित्यपीडिया
#साहित्यपीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
*कोरोना- काल में शादियाँ( छह दोहे )*
*कोरोना- काल में शादियाँ( छह दोहे )*
Ravi Prakash
राम काज में निरत निरंतर
राम काज में निरत निरंतर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दुविधा
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
*यह दौर गजब का है*
*यह दौर गजब का है*
Harminder Kaur
Loading...