Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।

वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है,
मै उसकी किताब, वो अब मुझे पढ़ता नहीं है।

मेरी आंखों के मोती गिरते हैं होकर जब बेजान,
वो उन मोतियों को फिर धागे में भरता नहीं है ।।

वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है,
मैं उसका अक्स, वो मुझे खुदमें देखता नहीं है।

उस आसमां का मैं अब तन्हा सा चांद लगता हूं,,
वो बादलों की तरह मुझे आगोश में कसता नहीं है । ।

वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है,
मैं उसका माहताब, वो अब मुझे तकता नहीं है।

इस सारे जहां में एक मैं ही उदास लगता हूं,,
मेरे दिल के हाल वो अब पहचानता नहीं है।।

_फायज़ा तसलीम

6 Likes · 1 Comment · 341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
Sunil Suman
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
3154.*पूर्णिका*
3154.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
शेखर सिंह
आमदनी ₹27 और खर्चा ₹ 29
आमदनी ₹27 और खर्चा ₹ 29
कार्तिक नितिन शर्मा
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
Kumar Kalhans
बिन बोले ही हो गई, मन  से  मन  की  बात ।
बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।
sushil sarna
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
* सोमनाथ के नव-निर्माता ! तुमको कोटि प्रणाम है 【गीत】*
* सोमनाथ के नव-निर्माता ! तुमको कोटि प्रणाम है 【गीत】*
Ravi Prakash
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
Rituraj shivem verma
"आरजू"
Dr. Kishan tandon kranti
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
Rekha khichi
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
घड़ी घड़ी ये घड़ी
घड़ी घड़ी ये घड़ी
Satish Srijan
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नमन तुमको है वीणापाणि
नमन तुमको है वीणापाणि
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उफ़,
उफ़,
Vishal babu (vishu)
चांद शेर
चांद शेर
Bodhisatva kastooriya
कर्म का फल
कर्म का फल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...