Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2023 · 1 min read

वो मुझ को “दिल” ” ज़िगर” “जान” सब बोलती है मुर्शद

वो मुझ को “दिल” ” ज़िगर” “जान” सब बोलती है मुर्शद

बस एक i love you नही बोलती.
विशाल बाबू ✍️✍️

401 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
"काली सोच, काले कृत्य,
*Author प्रणय प्रभात*
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
कवि दीपक बवेजा
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
** सावन चला आया **
** सावन चला आया **
surenderpal vaidya
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
"वैसा ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज फिर दर्द के किस्से
आज फिर दर्द के किस्से
Shailendra Aseem
सुनसान कब्रिस्तान को आकर जगाया आपने
सुनसान कब्रिस्तान को आकर जगाया आपने
VINOD CHAUHAN
2786. *पूर्णिका*
2786. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Love night
Love night
Bidyadhar Mantry
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
बाबूजी
बाबूजी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
यादों में
यादों में
Shweta Soni
“गर्व करू, घमंड नहि”
“गर्व करू, घमंड नहि”
DrLakshman Jha Parimal
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
Jyoti Khari
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
वो अजनबी झोंका
वो अजनबी झोंका
Shyam Sundar Subramanian
Loading...