Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2023 · 1 min read

वो भी तो ऐसे ही है

पूछते हैं किसी के हाल वो,
जब आ जाये याद उनको,
वरना रहते हैं मग्न वो,
ईश्वर की भक्ति में,
अपने स्पीकर की आवाज तेज करके,
उन्हें भी तो चलानी है,
अपनी गृहस्थी और जिंदगी की गाड़ी,
इसलिए करते हैं वो भी जुगाड़,
इधर उधर से रुपयों का,
जोड़तोड़ करके,
रखते हैं बड़ो को खुश,
अगर आज वो मुझको बुला रहे हैं,
तो उनको मुझसे जरूर कोई लाभ होगा,
जरूर उनके घर कोई उत्सव होगा,
अर्थव्यवस्था के इस नवयुग में,
कौन चाहेगा रिश्तों के फन्दों में फंसना,
चाहेगा हर कोई पिंजरों को तोड़कर,
आजाद होकर उन्मुक्त आकाश में उड़ना,
और मैं भी यही चाहता हूँ,
उनके जैसा महल और खुशियां,
क्या जरूरी है धार्मिक होना,
और फिर ईमानदारी से कौन बना है,
यहाँ अमीर और नामवर इंसान,
वो भी तो ऐसे ही है,
जो आज नामवर और धनवान है।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
Seema Verma
एक ख़्वाब सी रही
एक ख़्वाब सी रही
Dr fauzia Naseem shad
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
■ तरकश के तीर...
■ तरकश के तीर...
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-217💐
💐प्रेम कौतुक-217💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
अहंकार
अहंकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वीर सैनिक (बाल कविता)
वीर सैनिक (बाल कविता)
Ravi Prakash
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
23/191.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/191.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*आदत बदल डालो*
*आदत बदल डालो*
Dushyant Kumar
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
पिता का बेटी को पत्र
पिता का बेटी को पत्र
प्रीतम श्रावस्तवी
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
फितरत,,,
फितरत,,,
Bindravn rai Saral
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
तूणीर (श्रेष्ठ काव्य रचनाएँ)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हालात पर फ़तह की तैयारी कीजिए।
हालात पर फ़तह की तैयारी कीजिए।
Ashwini sharma
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
"मानो या न मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
मुझ को इतना बता दे,
मुझ को इतना बता दे,
Shutisha Rajput
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
सीनाजोरी (व्यंग्य)
सीनाजोरी (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...