Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2016 · 1 min read

वो दर ओ बाम क्यूँ नहीं आता,,

इक दिया आम क्यूँ नहीं आता,
वो दर ओ बाम क्यूँ नहीं आता,,

एक ही शख़्स क्यूँ ज़बाँ पर है,
दूसरा नाम क्यूँ नहीं आता,,

इश्क़ करना बस इश्क़ करना ही,
दूसरा काम क्यूँ नहीं आता,,

जाने क्यूँ कर के दिल धड़कता है,
इसको आराम क्यूँ नहीं आता,,

चाँद के शौक़ में कभी छत पर,
वो खुले आम क्यूँ नहीं आता,,

तुम मुख़ातिब तो मुझ से होते हो,
ख़त मेरे नाम क्यूँ नहीं आता,,

जब मुहब्बत नहीं अदावत है,
तो सरे आम क्यूँ नहीं आता,,

सब्र का ज़हर ही पियेंगे क्या,
सामने जाम क्यूँ नहीं आता,,

– नासिर राव

1 Comment · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
त्याग
त्याग
Punam Pande
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
gurudeenverma198
"क्रोध"
Dr. Kishan tandon kranti
तूफान आया और
तूफान आया और
Dr Manju Saini
2526.पूर्णिका
2526.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
बालगीत :- चाँद के चर्चे
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
" तार हूं मैं "
Dr Meenu Poonia
__________सुविचार_____________
__________सुविचार_____________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
*समृद्ध भारत बनायें*
*समृद्ध भारत बनायें*
Poonam Matia
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
मर्दों वाला काम
मर्दों वाला काम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी, क्या है?
जिंदगी, क्या है?
bhandari lokesh
■ सपनों में आ कर ■
■ सपनों में आ कर ■
*Author प्रणय प्रभात*
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
विमला महरिया मौज
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
दिल जल रहा है
दिल जल रहा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
Mr.Aksharjeet
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
Ravi Prakash
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
ये, जो बुरा वक्त आता है ना,
ये, जो बुरा वक्त आता है ना,
Sandeep Mishra
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
Loading...