Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

वो तेरी एक भूल

सुबह उगते हुए सूरज से मैंने पूछा
यहां जो उग रहा है तू कहीं तो ढल रहा होगा
किसी की नींद आखों से चुराने तू यहां आया
कोई तो तेरे ना होने पर सपने बुन रहा होगा
ना जाने कौनसा रस्ता जो पीछे छोड़ तू आया
ना जाने कितनी बातें अँधेरे में गुम गयी होंगी
करेगा कौन कल शिकवा तुझसे बेवक्त जाने का
तेरे लौट आने तक कितनी शमांए बुझ गयी होंगी
वो पूरी दास्तान बता अब किसको सुनायेगा
जो रस्ता देखती थी वो पलके थक गयी होंगी
वो मेरी बीते वक्त एक पल कैसै चुकाएगा
वो तेरी एक भूल किसी की आहें बन गयी होंगी

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 216 Views
You may also like:
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
होती हैं अंतहीन
Dr fauzia Naseem shad
HAPPY BIRTHDAY PRAMOD TRIPATHI SIR
★ IPS KAMAL THAKUR ★
उर्मिला के नयन
Shiva Awasthi
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम भूल गए सच में, संस्कृति को
gurudeenverma198
✍️इश्क़ के बीमार✍️
'अशांत' शेखर
*दस फिट की माला (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिन्दगी का क्या भरोसा
Swami Ganganiya
महाकवि दुष्यंत जी की पत्नी राजेश्वरी देवी जी का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आधा इंसान
GOVIND UIKEY
इंकलाब की तैयारी
Shekhar Chandra Mitra
अनमोल है स्वतंत्रता
Kavita Chouhan
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार कर्ण
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
हमें जाँ से प्यारा हमारा वतन है..
अश्क चिरैयाकोटी
आस्तीक भाग -दस
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्वंग का डर
Sushil chauhan
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
गम तारी है।
Taj Mohammad
गुरु कृपा
Buddha Prakash
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रकृति के साथ जीना सीख लिया
Manoj Tanan
स्लोगन
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
आकाश
AMRESH KUMAR VERMA
Sometimes
Suryakant Chaturvedi
Loading...