Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

वो तेरी एक भूल

सुबह उगते हुए सूरज से मैंने पूछा
यहां जो उग रहा है तू कहीं तो ढल रहा होगा
किसी की नींद आखों से चुराने तू यहां आया
कोई तो तेरे ना होने पर सपने बुन रहा होगा
ना जाने कौनसा रस्ता जो पीछे छोड़ तू आया
ना जाने कितनी बातें अँधेरे में गुम गयी होंगी
करेगा कौन कल शिकवा तुझसे बेवक्त जाने का
तेरे लौट आने तक कितनी शमांए बुझ गयी होंगी
वो पूरी दास्तान बता अब किसको सुनायेगा
जो रस्ता देखती थी वो पलके थक गयी होंगी
वो मेरी बीते वक्त एक पल कैसै चुकाएगा
वो तेरी एक भूल किसी की आहें बन गयी होंगी

Language: Hindi
1 Comment · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बड़ पीरा हे"
Dr. Kishan tandon kranti
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3230.*पूर्णिका*
3230.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संस्कारों के बीज
संस्कारों के बीज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
*मिट्टी की वेदना*
*मिट्टी की वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते हैं, पर उनकी बातों में विश
जय लगन कुमार हैप्पी
तपन ऐसी रखो
तपन ऐसी रखो
Ranjana Verma
रमेशराज के बालगीत
रमेशराज के बालगीत
कवि रमेशराज
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
💐प्रेम कौतुक-250💐
💐प्रेम कौतुक-250💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"अगर आप किसी का
*Author प्रणय प्रभात*
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ग़म-ए-दिल....
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
नेह का दीपक
नेह का दीपक
Arti Bhadauria
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
औरत
औरत
shabina. Naaz
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
International Hindi Day
International Hindi Day
Tushar Jagawat
साहित्य - संसार
साहित्य - संसार
Shivkumar Bilagrami
The blue sky !
The blue sky !
Buddha Prakash
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...