Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2024 · 1 min read

****वो जीवन मिले****

जो मिला न कभी जीवन में
खुशनुमा वो नवजीवन मिले
कुम्हलाये सुमन उपवन में
पुष्पों से आच्छादित पथ मिले।

टूटती सी साँसों की लड़ियां
इक इक आस उम्मीद के लिये
बिखरता वो लम्हा लम्हा सा
खोया हुआ स्वर्णिम पल मिले

नेह को यूँ प्रतिपल तरसी
प्रेम का इक कतरा ना मिला
हिय हुआ तब मरुस्थल सा
बहता प्रेमदरिया कलकल मिले

थक गई कंटील पथ पर चलते
क्षीण सी हुई काया ढलते
छँटकर शूल राह से सारे
पथ वो सहज सरल ही मिले

तमस से घिरा सा वो जीवन जो
हर पल अंधियारों में बीता
टिमटिमाते सहस्त्र तारों से
दमकता इक नभ गगन मिले।।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम गए कहाँ हो 
तुम गए कहाँ हो 
Amrita Shukla
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
Dr.Khedu Bharti
"जरा सुनो"
Dr. Kishan tandon kranti
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
मेरी हस्ती का अभी तुम्हे अंदाज़ा नही है
'अशांत' शेखर
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
राजेश बन्छोर
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
लगे रहो भक्ति में बाबा श्याम बुलाएंगे【Bhajan】
Khaimsingh Saini
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"बहुत से लोग
*प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
Shweta Soni
गले से लगा ले मुझे प्यार से
गले से लगा ले मुझे प्यार से
Basant Bhagawan Roy
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
Vedha Singh
समाज का डर
समाज का डर
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
मैं रूठूं तो मनाना जानता है
Monika Arora
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
मै खामोश हूँ , कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का  इम्तेहान न ले ,
मै खामोश हूँ , कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
Neelofar Khan
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
याद रे
याद रे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उलझी हुई है जुल्फ
उलझी हुई है जुल्फ
SHAMA PARVEEN
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
Loading...