Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2023 · 1 min read

वो अपना अंतिम मिलन..

वो अपना अंतिम मिलन..
भावों की दूब पर..
अनुभवों की चमकती बूॅंदों सा रुक गया!
भर गया तरल उम्मीदों की पॅंखुड़ियों से..
जीवन की थरथराती शाखों को।
और..
किसी मौन तिलिस्म की तरह..
सहेज गया मेरे मन में..
अपनी छलछलाती ऑंखों को!

रश्मि लहर

193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2774. *पूर्णिका*
2774. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
आचार संहिता
आचार संहिता
Seema gupta,Alwar
* धन्य अयोध्याधाम है *
* धन्य अयोध्याधाम है *
surenderpal vaidya
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
प्रेम एक सहज भाव है जो हर मनुष्य में कम या अधिक मात्रा में स
Dr MusafiR BaithA
#क़तआ
#क़तआ
*Author प्रणय प्रभात*
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
न कोई काम करेंगें,आओ
न कोई काम करेंगें,आओ
Shweta Soni
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
Atul "Krishn"
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोचा नहीं कभी
सोचा नहीं कभी
gurudeenverma198
Needs keep people together.
Needs keep people together.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
Paras Nath Jha
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
Anand Kumar
वह जो रुखसत हो गई
वह जो रुखसत हो गई
श्याम सिंह बिष्ट
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
"वक्त"
Dr. Kishan tandon kranti
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
एक पते की बात
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विवाद और मतभेद
विवाद और मतभेद
Shyam Sundar Subramanian
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
हसरतें हर रोज मरती रहीं,अपने ही गाँव में ,
Pakhi Jain
मरहटा छंद
मरहटा छंद
Subhash Singhai
Loading...