Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

वोट कर!

1222 1222
अगर द़स्तार बदलेगा ।
तभी किरदार बदलेगा।
हमारे ही तो वोटों से,
दरो – दीवार बदलेगा ।

मुखौटा ग़र हटा दोगे,
तभी अय्यार बदलेगा।
समय पहले न जो बदला
सुनो इस बार बदलेगा।

बदल जाएँगे दिन सबके
दिलों का खार बदलेगा।
तुम्हारे वोट से प्यारे
वतन आकार बदलेगा।

किया जो वोट ना तुमने
न हा – हाकार बदलेगा।
तिरा इक वोट सुन ‘नीलम’
सही सरकार बदलेगा।
नीलम शर्मा ✍️
दस्तार-पगड़ी
अग्यार -अनजान

1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
"बेरोजगार या दलालों का व्यापार"
Mukta Rashmi
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
वो एक संगीत प्रेमी बन गया,
वो एक संगीत प्रेमी बन गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रावण
रावण
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
जिंदगी कि सच्चाई
जिंदगी कि सच्चाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
*मेरे साथ तुम हो*
*मेरे साथ तुम हो*
Shashi kala vyas
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
ଷଡ ରିପୁ
ଷଡ ରିପୁ
Bidyadhar Mantry
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
मैं
मैं
Ajay Mishra
पीताम्बरी आभा
पीताम्बरी आभा
manisha
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
कैसे- कैसे नींद में,
कैसे- कैसे नींद में,
sushil sarna
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
इंसान होकर जो
इंसान होकर जो
Dr fauzia Naseem shad
जब एक शख्स लगभग पैंतालीस वर्ष के थे तब उनकी पत्नी का स्वर्गव
जब एक शख्स लगभग पैंतालीस वर्ष के थे तब उनकी पत्नी का स्वर्गव
Rituraj shivem verma
मेरी कहानी मेरी जुबानी
मेरी कहानी मेरी जुबानी
Vandna Thakur
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...