Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2022 · 1 min read

🚩वैराग्य

🧿१
भार्या का जब हो गया,अपने पति से योग।
फिर डर कैसा संत जी,क्यों है आत्म-वियोग।।
क्यों है आत्म-वियोग,बूंद को मिला समुंदर।
निज मन-मल तज आप ,बने उपकारी मंदिर। ।
‘नायक’ कह श्री क्रौंच, पूर्ण नश्वर यह काया।
कंत स्वयं जगदीश, आतमा उसकी भार्या।।
———–
👉उक्त कुंडलिया मेरी(पं बृजेश कुमार नायक की) कृति/खंडकाव्य/शोधपरकग्रंथ “क्रौंच सु ऋषि आलोक” के द्वितीय संस्करण की कुण्डलिया है।पृष्ठ संख्या 39

👉”क्रौंच सु ऋषि आलोक” शोधपरक ग्रंथ/खंडकाव्य का द्वितीय संस्करण साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से प्रकाशित है और अमेजोन-फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।
—–
आचार्य पं बृजेश कुमार नायक
“एम.ए.हिंदी”
“विद्यावाचस्पति”
“विद्यासागर”
“द आर्ट ऑफ लिविंग” अंतर्राष्ट्रीय आध्यात्मिक संस्था के संस्थापक एवं विश्व प्रसिद्ध योगी सदगुरु श्री श्री रविशंकर जी के शिष्य

1 Like · 1 Comment · 456 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak

You may also like:
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*जिनके मन में माँ बसी , उनमें बसते राम (कुंडलिया)*
*जिनके मन में माँ बसी , उनमें बसते राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लफ्ज़
लफ्ज़
Dr Praveen Thakur
*ये उन दिनो की बात है*
*ये उन दिनो की बात है*
Shashi kala vyas
झील के ठहरे पानी में,
झील के ठहरे पानी में,
Satish Srijan
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Bodhisatva kastooriya
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
2314.पूर्णिका
2314.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
"महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै"
MSW Sunil SainiCENA
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
देखा है जब से तुमको
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
दो पल की जिन्दगी मिली ,
दो पल की जिन्दगी मिली ,
Nishant prakhar
तू रुक ना पायेगा ।
तू रुक ना पायेगा ।
Buddha Prakash
लतिका
लतिका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
Seema Verma
पिता
पिता
Kavi Devendra Sharma
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
Vishal babu (vishu)
इतना ना खुश हो ओ उड़ने वाले पंछी
इतना ना खुश हो ओ उड़ने वाले पंछी
Dr. Rajiv
तुम कब आवोगे
तुम कब आवोगे
gurudeenverma198
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
आदिम परंपराएं
आदिम परंपराएं
Shekhar Chandra Mitra
■ दोहे फागुन के...
■ दोहे फागुन के...
*Author प्रणय प्रभात*
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
Loading...