Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 2 min read

शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की

कभी राम ने शम्बूक मारा,
कभी द्रोण ने एकलब्य का अंगूठा धरा,
जीवन भर धनुर्धारी कर्ण तड़फता रहा,
उसे ना कभी न्याय सम्मान मिला..।

ऐसी है भारत वर्ष की कहानी,
ऐसा ही सनातन धर्म का इतिहास रहा,
शूद्र ने सुन लिए पुराण शास्त्र तो,
उसके कानों में खोलता हुआ गर्म तेल भरा..।

महिलाओं को चरणों में बिठाया,
ना कुछ गलती पर चट्टान बनाया,
एक को भोगा पाँच भाइयों ने,
तो सीता को भी बार-बार अग्नि में जलाया..।

यह कैसा इतिहास हमारा,
यह कैसा शास्त्रों का न्याय रहा,
पति हुआ स्वर्गवासी असमय,
तो महिलाओं को सती बनाकर जिंदा जलाया..।

इंद्र ने अपवित्र किया अहिल्या को,
पाराशर ने मत्स्यगंधा से सहवास किया,
कुंती के गर्भ में सूरज का बेटा,
तो विश्वामित्र ने मेनका के लिए तप व्रत तोड़ दिया..।

बाहरी आक्रांता लुटेरे सब देख रहे थे,
वैदिक धर्म के भेदभाव को समझ रहे थे,
जहाँ शास्त्र इंसान को इंसानों से दूर कर रहे,
आततायियों ने इस अवसर का लाभ उठाया..।

स्वार्थ सिद्धि करने केवट को भी गुरु बनाया,
शबरी का झूठा बेर भी खाया,
कुंती रोयी हाथ जोड़कर कर्ण के आगे,
बरना दुराचारी ब्राह्मण रावण की चरण धूल को माथे से लगाया..।

शूद्र कहकर इंसानों को जानवर बतलाया,
यह कैसा मनू का न्याय शास्त्र रहा,
सूरज,बादल,धरती,नदी ना करते भेद किसी में,
वेदों की वर्ण व्यवस्था ने यह कैसा अप्रासंगिक भेद बनाया..।

शूद्र बोले पाली, प्राकृत भाषा,
ब्राह्मण क्षत्रिय संस्कृत पर अधिकार रखे,
हर वक्ष नितंब को काट डाला,
जो शूद्र महिला इनको ढक कर चले.।

यह कैसी आर्यों की व्यवस्था,
वेद उपनिषदों का यह कैसा आध्यात्म रहा,
ब्राह्मण क्षत्रिय यज्ञ, योग, ध्यान ही करते,
शूद्रों को राम कहने का भी ना अधिकार मिला..।

यह कैसा था भेदभाव ब्रह्म का,
पानी, परछाई तक से भी दूर रखा,
ब्राह्मण क्षत्रियों को सिर, कंधे पर बिठाया,
तो शूद्रों का स्थान आदिम पुरुष के तलबों में रहा.।

क्या यही रही सनातनी व्यवस्था,
क्या इसी पर हम सब गर्व करें,
जहाँ इंसानों को गाय पशु से भी बदतर समझा,
आज वोट के लिए ब्राह्मण, शूद्रों के यहाँ भोज करें..।

वाह रे वाह व्यवस्था बनाने वालो,
तुम्हारी कलम की चतुराई को क्यों ना धन्य कहें,
आरक्षण से शूद्र को चौथे दर्जे का प्रमाण पत्र दे दिया,
मंदिर, संसद उद्घाटन पर शूद्र राष्ट्रपति को दूर रखें..।

प्रशांत सोलंकी,
नई दिल्ली-07

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 737 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
goutam shaw
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
Mahima shukla
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर....
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर....
Shweta Soni
कुछ लोग किरदार ऐसा लाजवाब रखते हैं।
कुछ लोग किरदार ऐसा लाजवाब रखते हैं।
Surinder blackpen
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रचो महोत्सव
रचो महोत्सव
लक्ष्मी सिंह
* नहीं पिघलते *
* नहीं पिघलते *
surenderpal vaidya
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
छाती
छाती
Dr.Pratibha Prakash
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
* दिल का खाली  गराज है *
* दिल का खाली गराज है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हे कलम
हे कलम
Kavita Chouhan
Loading...