Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2016 · 1 min read

वेदना

वीणा-सी झंकृत होती,
आवाज माँ की , अब
सहमी हुई है,दो बरस से ।
माथे से बहता स्वेद,
और पैरों में पड़े हुए
छालों के साथ,
पच्चीस कोस पर
होता है सूर्यास्त पिता का।
कानाफूसी में
ग़ुजरने लगा है
वक्त पड़ोस का ।
वैधव्य से पीड़ित
टूटे घर के
उखड़े कोने में
सिमट गई है,बूढ़ी दादी ।
परिवार की व्यथा
से अभिभूत,द्वार पर
बैठा है कुत्ता चौकन्ना,
उसकी भी
आँखें गीली हैं।
आखिर.!
सयानी हो चली है,
बिटिया ग़रीब की ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी
कवि एवं शिक्षक।

Language: Hindi
1 Like · 6 Comments · 1074 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
अनिल कुमार
ए जिंदगी ,,
ए जिंदगी ,,
श्याम सिंह बिष्ट
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
स्थायित्व (Stability)
स्थायित्व (Stability)
Shyam Pandey
सम्पूर्ण सनातन
सम्पूर्ण सनातन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
"वक्त के गर्त से"
Dr. Kishan tandon kranti
"हे वसन्त, है अभिनन्दन.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बदलना भी जरूरी है
बदलना भी जरूरी है
Surinder blackpen
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
बस अणु भर मैं बस एक अणु भर
Atul "Krishn"
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
Sarfaraz Ahmed Aasee
💐प्रेम कौतुक-471💐
💐प्रेम कौतुक-471💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
किताबे पढ़िए!!
किताबे पढ़िए!!
पूर्वार्थ
2892.*पूर्णिका*
2892.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
जीतना
जीतना
Shutisha Rajput
*कन्या-धन जो दिया ईश तुम को प्रणाम सौ बार (गीत)*
*कन्या-धन जो दिया ईश तुम को प्रणाम सौ बार (गीत)*
Ravi Prakash
इसलिए तुमसे मिलता हूँ मैं बार बार
इसलिए तुमसे मिलता हूँ मैं बार बार
gurudeenverma198
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!! चुनौती !!
!! चुनौती !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
Dr. Man Mohan Krishna
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
*Author प्रणय प्रभात*
फ़ितरत अपनी अपनी...
फ़ितरत अपनी अपनी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐🙏एक इच्छा पूरी करना भगवन🙏💐
💐🙏एक इच्छा पूरी करना भगवन🙏💐
Suraj kushwaha
Loading...