Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2016 · 1 min read

वृक्ष

वृक्ष
|||||||||||
पेड़ होते भूमि की नित——–शान हैं।
सृष्टि का भूलोक पर——-वरदान हैं।

सब निराले गुण समेटे हैं——-विटप,
फल हवा औषध दिए कुल –दान हैं।

दर्ज पन्नों में रहा इतिहास ——-अब,
बोधि तरु अरु कल्पतरु अभिज्ञान हैं।

है धरा पर रोपना बहुधा ———इन्हें,
फिर बचेगी मनुज तेरी ——-जान हैं।

फिर शुरू हो मैती’ चिपको —-से बड़े,
पूर्व में फूले फले ———-अभियान हैं।

बन्द होना चाहिए वन ———काटना,
रोपने तरु जो धरा ———-परिधान हैं।
****************************************** नीरज पुरोहित रुद्रप्रयाग(उत्तराखण्ड)

380 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-504💐
💐प्रेम कौतुक-504💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
Ravi Ghayal
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
कैसी पूजा फिर कैसी इबादत आपकी
Dr fauzia Naseem shad
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
I find solace in silence, though it's accompanied by sadness
I find solace in silence, though it's accompanied by sadness
पूर्वार्थ
"वो गुजरा जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
*यदि मक्खी आकर हमें डराती (बाल कविता)*
*यदि मक्खी आकर हमें डराती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
हर एक मन्जर पे नजर रखते है..
हर एक मन्जर पे नजर रखते है..
कवि दीपक बवेजा
सुन्दरता।
सुन्दरता।
Anil Mishra Prahari
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
आचार्य शुक्ल की कविता सम्बन्धी मान्यताएं
कवि रमेशराज
कठिनाई  को पार करते,
कठिनाई को पार करते,
manisha
मै स्त्री कभी हारी नही
मै स्त्री कभी हारी नही
dr rajmati Surana
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य जन्मोत्सव
जगतगुरु स्वामी रामानंदाचार्य जन्मोत्सव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
Srishty Bansal
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
#मानो_या_न_मानो
#मानो_या_न_मानो
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...