Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2018 · 1 min read

वीर जवानों को सलाम

वीर जवानों को सलाम
********************
वतन पे जां अपना लुटाने लगे हैं।
कि दुश्मन की हस्ती मिटाने लगे हैं।

नया गीत फिर से लिखेगा जमाना।
भगत, राजगुरु देखो आने लगे हैं।

सरहद पे हर दिन ही होता अदावत।
दुश्मन के छक्के छुड़ाने लगे हैं।

खिला फूल फिर से हिन्द ए चमन में।
दगाबाज को दम दिखाने लगे हैं।

मिले जो सहादत वो समझें इबादत।
अजी गोली सीने पे खाने लगे है।

नजर खाम कोई जो डालेगा हम पर।
कि सीने में खंजर चुभाने लगे हैं।

अपना वतन है ये वीरों की भूमि।
दुश्मन भी डर – डर के जाने लगे हैं।
????
✍ ✍ पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
Fantasies are common in this mystical world,
Fantasies are common in this mystical world,
Chahat
काश हुनर तो..
काश हुनर तो..
Dr. Kishan tandon kranti
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
Shivkumar Bilagrami
हार पर प्रहार कर
हार पर प्रहार कर
Saransh Singh 'Priyam'
इच्छाएं.......
इच्छाएं.......
पूर्वार्थ
वोट का लालच
वोट का लालच
Raju Gajbhiye
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
कल रात सपने में प्रभु मेरे आए।
Kumar Kalhans
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
Suryakant Dwivedi
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
कृष्णकांत गुर्जर
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
कब तक छुपाकर रखोगे मेरे नाम को
कब तक छुपाकर रखोगे मेरे नाम को
Manoj Mahato
3241.*पूर्णिका*
3241.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
संघर्ष हमारा जीतेगा,
संघर्ष हमारा जीतेगा,
Shweta Soni
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
कोहराम मचा सकते हैं
कोहराम मचा सकते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
*ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक*
*ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक*
Ravi Prakash
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
शेखर सिंह
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Upon the Himalayan peaks
Upon the Himalayan peaks
Monika Arora
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
" सब किमे बदलग्या "
Dr Meenu Poonia
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
Loading...