Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 2 min read

*******वीर जवानों की गाथायें *******

*******वीर जवानों की गाथायें *******

वीर जवानों की गाथायें,तुमको आज सुनाता हूँ ;

तूफानों में डटे रहे जो ,उनको शीश झुकता हूँ ;

कर्मपथ के वे अनुरागी ,मैं तो उनका दास हूँ ;

उनकी ही आजादी में ,लेता खुलकर साँस हूँ ;

भारत माँ के प्रणय हेतु ,करता ये अहसास हूँ ;

गाकर गाथा उन वीरों की ,मन से मैं मुस्काता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————–

चढ़ चेतक पर राणा प्रताप ,हर-हर बम-बम बोले थे ;

काँप उठा था शत्रु सारा ,वीर शिवा जब डोले थे ;

मंगल पांडे की चिंगारी ,रंग आजादी लाई थी ;

लक्ष्मीबाई भी बन काली ,अंग्रेजों पर छाई थी ;

राजगुरु सुखदेव भगत ने, फांसी गले लगाई थी ;

शेखर की पिस्तौल के आगे, नतमस्तक हो जाता हूँ;

वीर जवानों की गाथायें————————–

गोविंदसिंह का बाज उडा था ,फुर-फुर-फुर-फुर नभ में ;

ऊधमसिंह भी कूद पड़ा था , आजादी की जंग में ;

तात्यां ने भी मरघट भेजा ,अंग्रेजों को रण में ;

पंजाब केसरी की केसर की,मधुर सुगन्धी फैली थी ;

लोह पुरुष की आँखें भी ,अंगारो सी दहकी थी ;

दुश्मन का सीना चीर धरे जो,उनकी गाथा कहता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————–

नेताजी के सम्भाषण की,एक अनोखी मौज थी ;

वीर बांकुरों से अलंकृत, आजाद हिन्द फ़ौज थी ;

आजादी के मतवालों की ,बढ़ती हिम्मत रोज थी ;

रणभूमि में गर्जन करता, ऐसा सिंह एक था ;

भारत माँ की आजादी का उसका सपना नेक था ;

खून के बदले आजादी की ,पहेली एक बुझाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

आजादी के महासमर में ,लाखों लोग शहीद हुए ;

भारत माँ को चाहने वाले ,उनके ही मुरीद हुए ;

मात -पिता की आँखें नम , और सीना गर्व से पूर था ;

ब्याहता पत्नी की आशा का , टूटा सपना चूर था ;

भ्राता-भगिनि के चेहरों पर , विश्वासों का नूर था ;

शहीदों के बलिदान को अर्पित, पावन दीप जलाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

वीर शहीदों की चिता पर ,अश्रु सभी बहांते हैं ;

उनकी स्मृति की पावन ,झलकी गले लगते हैं ;

प्यार स्नेह से अभिनन्दन और वंदन उनका करते हैं ;

बदल गई हैं परिभाषाएँ, उनका वर्णन करते हैं ;

स्वार्थपरता लौलुपता का, सिंहासन है पर जोर है ;

उनके ही मर्दन की खातिर ,तत्वज्ञान बतलाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

भ्रष्टाचारी और आतंकी ,आज हमें ललकारे हैं ;

सीमा पर भी दुश्मनी की तेज खिंची तलवारे हैं ;

तुष्टिकरण में नेता जन भी ,शब्द नहीं उचारे हैं ;

आज नहीं हम चुप बैठेंगे ,करनी लड़ाई पार है ;

भारत माँ का बच्चा-बच्चा ,लड़ने को तैयार है ;

देश-द्रोहियों को मैं यही,बार-बार बतलाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

आजादी के मतवालों का ,झूम-झूम सम्मान करो ;

हैं स्वर्ग के वे अधिष्ठाता ,उनका नित जयगान करो ;

इसीलिए मैं सबसे कहता ,राष्ट्र-गीत का मान करो ;

भारत माँ की रक्षा हेतु ,विष का भी तुम पान करो ;

वन्देमातरम् वन्देमातरम् ,वन्देमातरम् गान करो ;

वीर भरत के भारत में मैं ,सिंह के दांत गिनाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

*******सुरेशपाल वर्मा जसाला

Language: Hindi
1 Comment · 1952 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"पैसा"
Dr. Kishan tandon kranti
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
२०२३
२०२३
Neelam Sharma
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
Ankita Patel
सितम ढाने का, हिसाब किया था हमने,
सितम ढाने का, हिसाब किया था हमने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2494.पूर्णिका
2494.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
नव लेखिका
इरादे नहीं पाक,
इरादे नहीं पाक,
Satish Srijan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
🌺🌺मेरी सादगी को बदनाम ना करो🌺🌺
🌺🌺मेरी सादगी को बदनाम ना करो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गीत
गीत
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
आकाश के नीचे
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सर्दी
सर्दी
Vandana Namdev
तेरे बिन
तेरे बिन
Kamal Deependra Singh
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तब घर याद आता है
तब घर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
देश हमर अछि श्रेष्ठ जगत मे ,सबकेँ अछि सम्मान एतय !
DrLakshman Jha Parimal
■ बेचारे...
■ बेचारे...
*Author प्रणय प्रभात*
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
*
*"शबरी"*
Shashi kala vyas
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
शिव आदि पुरुष सृष्टि के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
Ravi Prakash
रात गुज़र जायेगी यूं ही
रात गुज़र जायेगी यूं ही
Surinder blackpen
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
Loading...