Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2022 · 1 min read

वीरों को युद्ध आह्वान…..

प्रचंड है तू वीर है,
वीर में गंभीर है,
गंभीर में भी अधीर है,
संकट आए और न जाए,
आकर तुम से यदि टकराए,
बन जाओ तुम भी पर्वत
और करो लड़ाई अनवरत,
मत देखो पीछे तुम अपने
भिड़ जाओ आगे तुम अरि से,
दिखाओ अपनी गंभीरता
दिखाओ अपनी वीरता,
वीरता का रण है यह
यहाँ कोई अमर है क्या ?
लगा दिया तुमने सर्वस्व अपना
इसलिए जय तुम्हारा तय होगा
यही ईश्वर का निर्णय होगा |

4 Likes · 82 Views
You may also like:
"मेरी दुआ"
Dr Meenu Poonia
✍️मातारानी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पिता
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
“सुन रहे हैं ना मोदी जी! इमरान अफगानियों को भी...
DrLakshman Jha Parimal
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
ग़म नहीं अब किसी बात का
Kaur Surinder
*अभी भी याद आते हैं, बरातों वाले दिन साहिब(मुक्तक)*
Ravi Prakash
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
बाल कहानी- वादा
SHAMA PARVEEN
कान्हा हम बिसरब नहिं...
मनोज कर्ण
एक ठहरा ये जमाना
Varun Singh Gautam
रेत सी....
Dhani
"वृद्धाश्रम" कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
कितने सावन बीते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
चामर छंद "मुरलीधर छवि"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
जिन्दगी कागज़ की कश्ती।
Taj Mohammad
बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
विनोद सिल्ला
सफलता
Anamika Singh
विद्या राजपूत से डॉ. फ़ीरोज़ अहमद की बातचीत
डॉ. एम. फ़ीरोज़ ख़ान
वन्दना
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
" सिनेमा को दरक़ार है अब सुपरहिट गीतों की "...
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पिंजरा तोड़
Shekhar Chandra Mitra
💐💐सुषुप्तयां 'मैं' इत्यस्य भासः न भवति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'दीपक-चोर'?
पंकज कुमार कर्ण
तेरी खुशबू से
Dr fauzia Naseem shad
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
■ सामयिक / ज्वलंत प्रश्न
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...