Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2016 · 1 min read

विष दिया प्याले में उसने सामने ही घोलकर

============================
दिल दुखाया फिर किसी ने राज़ मेरे खोलकर
विष दिया प्याले में उसने सामने ही घोलकर

चुपके से आया था मेरीे जिंदगानी में कभी
जा रहा है आज मुझको जाने क्या क्या बोलकर

झुर्रियां चेहरे पे दस्तक दे रही हैं दिलरुबा
फायदा क्या तेरे आगे पीछे यूँ ही डोलकर

मैं भी झुक जाता अगर वो बात करता प्यार से
मेरी सुनता अपनी कहता नाप कर औ तोलकर

दूसरों की ग़ल्तियों पर क्यूं उठाता उँगलियां,
इस से पहले तू रजत ख़ुद अपना भी तो मोल कर.
============================
गुरचरन मेहता :रजत:

2 Comments · 400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्ववाद
विश्ववाद
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
शिव वंदना
शिव वंदना
ओंकार मिश्र
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
आहटें तेरे एहसास की हवाओं के साथ चली आती हैं,
Manisha Manjari
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
gurudeenverma198
जवानी
जवानी
Pratibha Pandey
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
मान भी जाओ
मान भी जाओ
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
■ जैसा देश, वैसा भेष।
■ जैसा देश, वैसा भेष।
*Author प्रणय प्रभात*
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
हिसका (छोटी कहानी) / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
2232.
2232.
Dr.Khedu Bharti
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
उनकी महफ़िल में मेरी हालात-ए-जिक्र होने लगी
'अशांत' शेखर
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बेटियाँ
बेटियाँ
Surinder blackpen
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
डी. के. निवातिया
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
Arvind trivedi
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राम काज में निरत निरंतर
राम काज में निरत निरंतर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*खूब थी जिंदा कि ज्यों, पुस्तक पुरानी कोई वह (मुक्तक)*
*खूब थी जिंदा कि ज्यों, पुस्तक पुरानी कोई वह (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
मैथिली मुक्तक (Maithili Muktak) / मैथिली शायरी (Maithili Shayari)
मैथिली मुक्तक (Maithili Muktak) / मैथिली शायरी (Maithili Shayari)
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
Loading...