Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

विष दिया प्याले में उसने सामने ही घोलकर

============================
दिल दुखाया फिर किसी ने राज़ मेरे खोलकर
विष दिया प्याले में उसने सामने ही घोलकर

चुपके से आया था मेरीे जिंदगानी में कभी
जा रहा है आज मुझको जाने क्या क्या बोलकर

झुर्रियां चेहरे पे दस्तक दे रही हैं दिलरुबा
फायदा क्या तेरे आगे पीछे यूँ ही डोलकर

मैं भी झुक जाता अगर वो बात करता प्यार से
मेरी सुनता अपनी कहता नाप कर औ तोलकर

दूसरों की ग़ल्तियों पर क्यूं उठाता उँगलियां,
इस से पहले तू रजत ख़ुद अपना भी तो मोल कर.
============================
गुरचरन मेहता :रजत:

2 Comments · 272 Views
You may also like:
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
"अशांत" शेखर
💐💐सुषुप्तयां 'मैं' इत्यस्य भासः न भवति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
Taj Mohammad
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।
Taj Mohammad
समय ।
Kanchan sarda Malu
जन्म दिन की बधाई..... दोस्त को...
Dr. Alpa H. Amin
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
मै वह हूँ।
Anamika Singh
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
सास-बहू के झगड़े और मनोविज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
बदरिया
Dhirendra Panchal
Loading...