Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें

सकल अमंगल हरे विश्व का, सुख शांति धरा पर आए।
ईश्वर का पावन नाम सुमर , जिसके जो मन भाए ।।
प्रेम का ऐंसा गान करें ,धरा प्रेम से भर जाए।
विश्व शांति की करें प्रार्थना, सुख शांति धरा पर छाए।।
ईश्वर के पावन नामों का, प्रेम से मिलकर गान करें।।
पारब़म्ह परमेश्वर ईश्वर, राम नाम गुणगान करें।
जगत पिता के नामों का, मिलकर अमृत पान करें।।
ढाई आखर की महिमा ,अर्पण दुनिया के नाम करें।
सुखी रहे मानवता सारी,नर्तन ईश्वर के नाम करें।।
ईश्वर के हैं नाम हजारों, पावन नामों से प़ीत करें।
श्रद्धा विश्वास और प्रेम से, नाम का मंगल गीत करें।।

उस परमपिता परमेश्वर के नाम,जो ईश्वर अल्लाह गाड गुरु और हजारों नामों से जाना जाता है।हे परमात्मा धरती पर सभी सुख शांति और प्रेम से भरे रहें।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
2 Likes · 1066 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
हाइकु शतक (हाइकु संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2345.पूर्णिका
2345.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अति आत्मविश्वास
अति आत्मविश्वास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीनगी हो गइल कांट
जीनगी हो गइल कांट
Dhirendra Panchal
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
आज हालत है कैसी ये संसार की।
आज हालत है कैसी ये संसार की।
सत्य कुमार प्रेमी
मोबाइल (बाल कविता)
मोबाइल (बाल कविता)
Ravi Prakash
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
सुप्त तरुण निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मन
मन
Happy sunshine Soni
💐प्रेम कौतुक-419💐
💐प्रेम कौतुक-419💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*पेड़*
*पेड़*
Dushyant Kumar
सागर सुखा है अपनी मर्जी से..
सागर सुखा है अपनी मर्जी से..
कवि दीपक बवेजा
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
Manisha Manjari
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
हिन्दी ग़ज़़लकारों की अंधी रति + रमेशराज
हिन्दी ग़ज़़लकारों की अंधी रति + रमेशराज
कवि रमेशराज
चाय
चाय
Rajeev Dutta
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
मुझे
मुझे "कुंठित" होने से
*Author प्रणय प्रभात*
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
शेखर सिंह
मुक्तक...छंद पद्मावती
मुक्तक...छंद पद्मावती
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दो कदम
दो कदम
Dr fauzia Naseem shad
धनतेरस
धनतेरस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खाक पाकिस्तान!
खाक पाकिस्तान!
Saransh Singh 'Priyam'
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...