Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2022 · 1 min read

विश्व मजदूर दिवस पर दोहे

विश्व मजदूर दिवस पर विशेष दोहे-

बिषय-मजदूर

1

बनते जो मजदूर है,
वे कितने मजबूर ।
सबकुछ अपना छोड़ के,
घर से बेहद दूर ।।

****

2

मिले मजूरी जब उसे,
तब रोटी बन पाय।
जिस दिन गया न काम पर,
भूखा ही रह जाय।
***

-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
अध्यक्ष मप्र लेखक संघ
संपादक-“आकांक्षा’ पत्रिका
शिवगनर कालोनी, टीकमगढ़ (म. प्र.)
मोबाइल -9893520965

Language: Hindi
242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
बावला
बावला
Ajay Mishra
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
घर से बेघर
घर से बेघर
Punam Pande
*हे महादेव आप दया के सागर है मैं विनती करती हूं कि मुझे क्षम
*हे महादेव आप दया के सागर है मैं विनती करती हूं कि मुझे क्षम
Shashi kala vyas
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
Neelam Sharma
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
"साकी"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल में कुण्ठित होती नारी
दिल में कुण्ठित होती नारी
Pratibha Pandey
कछुआ और खरगोश
कछुआ और खरगोश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
*अंगूर (बाल कविता)*
*अंगूर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
दोहा पंचक. . . . प्रेम
दोहा पंचक. . . . प्रेम
sushil sarna
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
Sanjay ' शून्य'
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ आज की बात।
■ आज की बात।
*Author प्रणय प्रभात*
दिल के दरवाज़े
दिल के दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
याराना
याराना
Skanda Joshi
रमेशराज के बालगीत
रमेशराज के बालगीत
कवि रमेशराज
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
3138.*पूर्णिका*
3138.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...