Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2023 · 1 min read

विश्व गौरैया दिवस

विश्व गोरैया दिवस 🐤

पहले एक गौरैया होती थी
एक आदमी होता था
लेकिन आदमी इतना ऊँचा उड़ा
कि गौरैया खो गई!

पहले एक पहाड़ होता था
एक आदमी होता था
लेकिन आदमी ऐसे तन कर खड़ा
कि पहाड़ ढह गया!

पहले एक नदी होती थी
एक आदमी होता था
लेकिन आदमी ऐसे वेग से बहा
कि नदी सो गई!

पहले एक पेड़ होता था
एक आदमी होता था
लेकिन आदमी ऐसे ज़ोर से झूमा
कि पेड़ सूख गया!

पहले एक पृथ्वी होती थी
एक आदमी होता था
लेकिन आदमी इतने ज़ोर से घूमा
कि पृथ्वी रो पड़ी!

रो पड़ी…
कि पहले एक आदमी होता था।

एक आदमी होता था / अज्ञेय

364 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वीर सुरेन्द्र साय
वीर सुरेन्द्र साय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
क्रोध
क्रोध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#जिज्ञासा-
#जिज्ञासा-
*प्रणय प्रभात*
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
जय लगन कुमार हैप्पी
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं आँखों से जो कह दूं,
मैं आँखों से जो कह दूं,
Swara Kumari arya
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
"बगुला भगत"
Dr. Kishan tandon kranti
दीवाना हूँ प्रेम गीत गाता हूँ
दीवाना हूँ प्रेम गीत गाता हूँ
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
भोर का दृश्य
भोर का दृश्य
surenderpal vaidya
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
ऐ गंगा माँ तुम में खोने का मन करता है…
ऐ गंगा माँ तुम में खोने का मन करता है…
Anand Kumar
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
मन मुकुर
मन मुकुर
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
महफिल में तनहा जले,
महफिल में तनहा जले,
sushil sarna
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सफ़र ए जिंदगी
सफ़र ए जिंदगी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"संविधान"
Slok maurya "umang"
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
Loading...