Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2022 · 1 min read

विशेष दिन (महिला दिवस पर)

दिन तो सभी एक से होते हैं,
फिर क्यों किसी एक दिन को,
बना दिया जाता है विशेष,
सजा दिये जाते हैं मंच,
की जाती हैं चर्चाऐं,
प्रदान किये जाते हैं सम्मान, पुरस्कार,
आखिर किस लिए आयोजित होते हैं,
बड़े-बड़े समारोह व आयोजन,
क्यों, आखिर क्यों –
क्योंकि –
साल के अन्य दिनों में,
जिन्दगी रहती हैं अस्त-पस्त,
रोजमर्रा के कार्यों में व्यस्त,
तो –
चुन लिया जाता है एक दिन,
करने को आत्म-मंथन,
निज कर्मों का अवलोकन,
कहाँ थे, कहाँ पहुँचे, कहाँ पहुँचना है,
तोलने हेतु अपने पर,
खुले आसमान पर अपनी उड़ान,
प्रगति-पथ पर क्या हैं हमारे नये लक्ष्य,
क्या होना चाहिए हमारा स्थान, हमारी पहचान।

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत) ।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०८.०३.२०१८.

Language: Hindi
567 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
द्वंद अनेकों पलते देखे (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
मुझको तुम्हारा क्या भरोसा
मुझको तुम्हारा क्या भरोसा
gurudeenverma198
इन्तजार है हमको एक हमसफर का।
इन्तजार है हमको एक हमसफर का।
Taj Mohammad
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कबीर कला मंच
कबीर कला मंच
Shekhar Chandra Mitra
छाया हर्ष है _नया वर्ष है_नवराते भी आज से।
छाया हर्ष है _नया वर्ष है_नवराते भी आज से।
Rajesh vyas
💐Prodigy Love-40💐
💐Prodigy Love-40💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
Amit Pathak
फिरौती
फिरौती
Shyam Sundar Subramanian
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*
*पीयूष जिंदल: एक सामाजिक व्यक्तित्व*
Ravi Prakash
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
2954.*पूर्णिका*
2954.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
कवि दीपक बवेजा
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
तुम हज़ार बातें कह लो, मैं बुरा न मानूंगा,
तुम हज़ार बातें कह लो, मैं बुरा न मानूंगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
स्वप्न सुंदरी तेरा नाम है क्या
स्वप्न सुंदरी तेरा नाम है क्या
आलोक पांडेय
■ सामयिक आलेख-
■ सामयिक आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
विडम्बना और समझना
विडम्बना और समझना
Seema gupta,Alwar
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...