Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

विरह वेदना

हॆ लखन..तुम तो श्री राम से भी वज्र भावनाओं के निकले
माँ सीता के वियोग में श्री राम अधीर हो चले
खग मृग सभी थे साक्षी
हाय सीते –हाय सीते कहकर हो रहे थे विकल
मगर सौमित्र अंतर्मन तुम्हारा नहीं हुआ विहल….
नहीं कहा तुमने कभी…हाय उर्मिल..तुम बिन मेरा हृदय भी बोझिल…तुम बिन मेरा हृदय भी बोझिल..
बीना लालस

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 565 Views
You may also like:
मेरी चुनरिया
DESH RAJ
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
मां शेरावाली
Seema 'Tu hai na'
खुशियां बेवफ़ा होती है।
Taj Mohammad
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
गजल_कौन अब इस जमीन पर खून से लिखेगा गजल
Arun Prasad
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
*आया जब भूकंप तो (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
“मैं बहुत कुछ कहना चाहता हूँ”
DrLakshman Jha Parimal
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
कोरोना दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शेर
Shriyansh Gupta
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
याद आयो पहलड़ो जमानो "
Dr Meenu Poonia
दुनिया भय मुक्त बनाना है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
अराजकता का माहौल
Shekhar Chandra Mitra
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
चाँद पर खाक डालने से क्या होगा
shabina. Naaz
नादानियाँ
Anamika Singh
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
मुक्तक
Arvind trivedi
जवाब दे न सके
Dr fauzia Naseem shad
तितली
Shyam Sundar Subramanian
✍️सियासत✍️
'अशांत' शेखर
💐अस्माकं प्रापणीयं तत्व: .....….....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आरंभ
Saraswati Bajpai
Education
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...