Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

विरह वेदना

हॆ लखन..तुम तो श्री राम से भी वज्र भावनाओं के निकले
माँ सीता के वियोग में श्री राम अधीर हो चले
खग मृग सभी थे साक्षी
हाय सीते –हाय सीते कहकर हो रहे थे विकल
मगर सौमित्र अंतर्मन तुम्हारा नहीं हुआ विहल….
नहीं कहा तुमने कभी…हाय उर्मिल..तुम बिन मेरा हृदय भी बोझिल…तुम बिन मेरा हृदय भी बोझिल..
बीना लालस

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 687 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Beena Lalas
View all
You may also like:
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
आऊं कैसे अब वहाँ
आऊं कैसे अब वहाँ
gurudeenverma198
*आवारा कुत्तों की समस्या: नगर पालिका रामपुर द्वारा आवेदन का
*आवारा कुत्तों की समस्या: नगर पालिका रामपुर द्वारा आवेदन का
Ravi Prakash
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
बने महब्बत में आह आँसू
बने महब्बत में आह आँसू
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Gairo ko sawarne me khuch aise
Gairo ko sawarne me khuch aise
Sakshi Tripathi
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
Prabhudayal Raniwal
2974.*पूर्णिका*
2974.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
कछुआ और खरगोश
कछुआ और खरगोश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
शायरी हिंदी
शायरी हिंदी
श्याम सिंह बिष्ट
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
💐प्रेम कौतुक-306💐
💐प्रेम कौतुक-306💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
मेरे जिंदगी के मालिक
मेरे जिंदगी के मालिक
Basant Bhagawan Roy
मन में एक खयाल बसा है
मन में एक खयाल बसा है
Rekha khichi
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
सोच का आईना
सोच का आईना
Dr fauzia Naseem shad
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
Dr MusafiR BaithA
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
परिचय
परिचय
Pakhi Jain
"सूदखोरी"
Dr. Kishan tandon kranti
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
Loading...