Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2024 · 1 min read

विनती

कल जोड़ प्रथम नमन तुमको करते आदि शक्ति।
संसार का मूल आधार है तू और तुझसे ही नियति।
स्वच्छ कर मन करे यज्ञाहुति में तुमको अर्पण।
पावन अग्नि में निर्मल करे हृदय का अंग अंग।

तुम आदि, तुम ही अनादि।
तुम शून्य, तुम ही शिखर।
तुम शाश्वत, तुम ही अचल।
तुम धरा, तुम ही अम्बर।

पात्र भी तुम ही, तुम ही जल।
चेतन भी तुम ही, तुम ही जड़।
शांत भी तुम ही, तुम ही विभ्रांत।
तप भी तुम ही, तुम ही वरदान।

सत्य तुमसे, तुमसे ही कल्पित।
व्यथा में तुम, तुम ही प्रमुदित।
शेष भी तुम, अवशेष भी तुम।
तिलक भी तुम, कलंक भी तुम।

तुम ही श्वास, तुम ही अंत।
तुम ही इति, तुम ही अनंत।
तुमसे पतित, तुमसे ही पावन।
तुमसे राम, तुमसे ही रावण।

अतीत की स्मृति तुम, भविष्य की व्यग्रता तुम।
उम्मीद की द्युति तुम, त्रास का अंधकार तुम।
पाप भी तुम, तुम ही पुण्य ग्रंथ के छंद।
जीवन का सार तुम, तुम ही मृत्यु का तांडव।

वंदना है तुझसे कि मेरी आत्मा को बल दे।
मेरी कलम को शक्ति, अक्षर को तल दे।
जो हो चूक, अज्ञान समझ क्षमा दान दे।
आशीष अपना बना, ज्ञान का प्रसाद दे।

1 Like · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये वादियां
ये वादियां
Surinder blackpen
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह  जाती हूँ
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह जाती हूँ
Amrita Srivastava
सोचता हूँ  ऐ ज़िन्दगी  तुझको
सोचता हूँ ऐ ज़िन्दगी तुझको
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तन प्रसन्न - व्यायाम से
तन प्रसन्न - व्यायाम से
Sanjay ' शून्य'
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
कृष्णकांत गुर्जर
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
Ranjeet kumar patre
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
'वर्दी की साख'
'वर्दी की साख'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
"क्या बताऊँ दोस्त"
Dr. Kishan tandon kranti
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
Neeraj Agarwal
■ आज की बात....!
■ आज की बात....!
*प्रणय प्रभात*
*योग-दिवस (बाल कविता)*
*योग-दिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इतना बेबस हो गया हूं मैं ......
इतना बेबस हो गया हूं मैं ......
Keshav kishor Kumar
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अकेला बेटा........
अकेला बेटा........
पूर्वार्थ
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वज़ह सिर्फ तूम
वज़ह सिर्फ तूम
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
मुझमें एक जन सेवक है,
मुझमें एक जन सेवक है,
Punam Pande
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
Loading...