Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2022 · 1 min read

जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।

जीवन उर्जा जो दिया है ईश्वर ने
इसे अच्छे कार्यो मे खर्च करो।
अपनों के संग जीवन मे तुम
खुशियों के हर रंग भरो।
ह्रदय मे जो अंहकार भरा है
इसको तुम नष्ट करो।
जीवन उर्जा जो दिया है ईश्वर ने
इसे अच्छे कार्यो मे खर्च करो।

ह्रदय मे रखो नही तुम हीन भावना,
नही ऊँची ख्वाहिशों के पीछे पड़ों
जो है उसमे खुश रहो तुम
दूसरो से तुलना कर अपना जीवन
बेकार मे न व्यर्थ करो।
जीवन उर्जा जो दिया है ईश्वर ने
इसे अच्छे कार्यो मे खर्च करो।

लिखो जीवन मे प्यार का गीत तुम
सुन्दर सा तुम चित्र रच लो।
नृत्य करो तुम अपनो के संग
मीठा सा कोई संगीत रचो।
जीवन उर्जा जो दिया है ईश्वर ने
इसे अच्छे कार्यो मे खर्च करो।

नही ईर्ष्या रखो तुम अपने ह्रदय मे
न ही ह्रदय मे धधके घृणा का अगन।
अभिमान, क्रोध को तज कर अपने ह्रदय से
पोषित ह्रदय संताप करो।
जीवन उर्जा जो दिया है ईश्वर ने
इसे अच्छे कार्यो मे खर्च करो।

अपनो के संग दूसरो का भी
जीवन रखो खुशहाल सदा,
ऐसा तुम नित्य काम करो।
ईश्वर ने है जो मार्ग दिखाया
उस मार्ग पर तुम चलते रहो।
जीवन उर्जा जो दिया है ईश्वर ने
इसे अच्छे कार्यो मे खर्च करो।

~अनामिका

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चेहरे के भाव
चेहरे के भाव
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"दिल में"
Dr. Kishan tandon kranti
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*पृथ्वी दिवस*
*पृथ्वी दिवस*
Madhu Shah
ये धरती महान है
ये धरती महान है
Santosh kumar Miri
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
देखी है ख़ूब मैंने भी दिलदार की अदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संज्ञा
संज्ञा
पंकज कुमार कर्ण
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़रा इतिहास तुम रच दो
ज़रा इतिहास तुम रच दो "
DrLakshman Jha Parimal
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
Raju Gajbhiye
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
जीवन के रास्ते हैं अनगिनत, मौका है जीने का हर पल को जीने का।
पूर्वार्थ
गलतफहमी
गलतफहमी
Sanjay ' शून्य'
■ एक ही उपाय ..
■ एक ही उपाय ..
*प्रणय प्रभात*
2619.पूर्णिका
2619.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
Atul "Krishn"
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
बहुत टूट के बरसा है,
बहुत टूट के बरसा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
*नौका में आता मजा, करिए मधुर-विहार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...