Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

विधवा

विधवा।
-आचार्य रामानंद मंडल।
वो विधवा छै
वो युवती छै।
मन में हुलसा छै।
श्रृंगार करे कै।
गले में हार पहिने के।
पैरों में पाजेब पहिने के।
हाथों में मेंहदी रचावे के।
पैरों में महाबर लगावे के।
वो विधवा छै।
वो युवती छै।
देह में कामना छै।
मन में भावना छै।
युवक से प्यार करे के।
मनक बात इजहार करे के।
समाज के बंदी तोड़ के।
नया पैगाम देवे के।
रामा नया पैगाम देवे ।
@आचार्य रामानंद मंडल।
-आचार्य रामानंद मंडल सामाजिक चिंतक सह साहित्यकार सीतामढ़ी।

Language: Maithili
320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी किसी की सुंदरता से प्रभावीत होकर खुद को उसके लिए समर्पित
कभी किसी की सुंदरता से प्रभावीत होकर खुद को उसके लिए समर्पित
Rituraj shivem verma
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
❤इस दिल में अरमान बहुत है 💙
❤इस दिल में अरमान बहुत है 💙
Dr.Khedu Bharti
चुनावी साल में समस्त
चुनावी साल में समस्त
*Author प्रणय प्रभात*
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
राम से बड़ा राम का नाम
राम से बड़ा राम का नाम
Anil chobisa
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शायरी
शायरी
goutam shaw
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
आज का महाभारत 2
आज का महाभारत 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
दीवानी कान्हा की
दीवानी कान्हा की
rajesh Purohit
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
वो कड़वी हक़ीक़त
वो कड़वी हक़ीक़त
पूर्वार्थ
बच कर रहता था मैं निगाहों से
बच कर रहता था मैं निगाहों से
Shakil Alam
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
बाल कविता: मोर
बाल कविता: मोर
Rajesh Kumar Arjun
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिंदगी की सांसे
जिंदगी की सांसे
Harminder Kaur
Loading...