Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 18, 2016 · 1 min read

विद्या

विद्या है एक उज्जवल तारा,
विद्या है सबका सहारा,
विद्या से जन जागृति पाता,
विद्या से मानव कहलाता,

उसको चोर चुरा नहीं सकता,
उसको समीर बहा नहीं सकता,
उसको अाग जला नहीं सकती,
उसको बर्फ गला नहीं सकती,

ज्ञान विवेक को देती विद्या,
जीवन का सुख देती विद्या,
सरस्वती का खज़ाना विद्या,
विद्वानों का अभूषण विद्या,

विद्या से नर शांति पाता,
विद्या से नर महानता पाता,
विद्या से वह शक्ति पाता,
विद्या है सबका अाधार|

299 Views
You may also like:
आओ तुम
sangeeta beniwal
बरसात
मनोज कर्ण
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
पिता
Deepali Kalra
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झूला सजा दो
Buddha Prakash
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
पिता
Meenakshi Nagar
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी लेखनी
Anamika Singh
Loading...