Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

* विदा हुआ है फागुन *

** नवगीत **
~~~~~~~~~~~~~
नई कोंपलों से पेड़ों को,
भर कर विदा हुआ है फागुन।

ठंडी ठंडी हवा चलेगी,
तपती दोपहरी में।
और सघन सी छाया होगी।
चुभन भरी गर्मी में।

पेड़ो पर पंछी गायेंगे,
सब हर्षित होंगे जिसको सुन।

सर्द ऋतु की जमी हुई अब,
उच्च शिखर की हिम पिघलेगी।
नदियों झरनों का बहता जल,
पीकर जग की प्यास बुझेगी।

घाटी पर्वत में गूँजेगी,
कलकल की मनभावन धुन।

पीपल बरगद की छाया में,
बच्चे बूढ़े मिल बैठेंगे।
दिन भर की बीती बातों में,
अपनी यादों को घोलेंगे।

जीवन के बिखरे सपनों को,
देखो सभी रहे हैं चुन।
~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
2757. *पूर्णिका*
2757. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#जी_का_जंजाल
#जी_का_जंजाल
*Author प्रणय प्रभात*
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
DrLakshman Jha Parimal
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
Dr Tabassum Jahan
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
The_dk_poetry
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आसान नहीं होता...
आसान नहीं होता...
Dr. Seema Varma
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
"दरख़्त"
Dr. Kishan tandon kranti
शेरे-पंजाब
शेरे-पंजाब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नदी की बूंद
नदी की बूंद
Sanjay ' शून्य'
शहीदों को नमन
शहीदों को नमन
Dinesh Kumar Gangwar
ओस की बूंद
ओस की बूंद
RAKESH RAKESH
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
15🌸बस तू 🌸
15🌸बस तू 🌸
Mahima shukla
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
धर्मनिरपेक्ष मूल्य
धर्मनिरपेक्ष मूल्य
Shekhar Chandra Mitra
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
Krishna Kumar ANANT
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" नम पलकों की कोर "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
मेरा और उसका अब रिश्ता ना पूछो।
शिव प्रताप लोधी
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
"ताले चाबी सा रखो,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*अकड़ू-बकड़ू थे दो डाकू (बाल कविता )*
*अकड़ू-बकड़ू थे दो डाकू (बाल कविता )*
Ravi Prakash
Loading...