Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

विडंबना

सत्य को स्थापित करना क्यों
संघर्ष पूर्ण होता है ?

मानवीय संवेदनाओं के यथार्थ को समझाना
क्यों मुश्किल होता है ?

तर्कहीन विषयवस्तु को कुतर्क के
सहारे बहुमत से प्रतिपादित करना
क्यों सरल प्रतीत होता है ?

प्रज्ञान ,बुद्धिमता एवं व्यावहारिक कुशलता,
छद्म के विरुद्ध अभियोजन हेतु
जनमत के अभाव में
क्यों असहाय से प्रतीत होते हैं ?

नीति निर्देश , न्यायव्यवस्था एवं प्रशासन
प्रक्रिया के दोहरे मापदंड
क्यों विचलित एवं कुंठित करते हैं ?

सत्यनिष्ठा ,सदाचार ,सद्- विचार,
सद्- भाव एवं सद्व्यवहार ,
क्यों किताबी बातों में सिमटकर रह गए हैं ?

नियति की मार बहुदा निरीह लोगों पर
ही क्यों पड़ती है ?

ये समस्त प्रश्न निरंतर मन मस्तिष्क में कौधते रहतें हैं ,
इन सभी विसंगतियों के उत्तर खोजने में हम जीवनपर्यंत असमर्थ रहते हैं ।

2 Likes · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
अंततः कब तक ?
अंततः कब तक ?
Dr. Upasana Pandey
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
मजबूरी
मजबूरी
The_dk_poetry
संबंध क्या
संबंध क्या
Shweta Soni
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
"इस दुनिया में"
Dr. Kishan tandon kranti
" मेरी तरह "
Aarti sirsat
"बहनों के संग बीता बचपन"
Ekta chitrangini
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
क्षणभंगुर
क्षणभंगुर
Vivek Pandey
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
Neelam Sharma
डुगडुगी बजती रही ....
डुगडुगी बजती रही ....
sushil sarna
सहज रिश्ता
सहज रिश्ता
Dr. Rajeev Jain
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
आजाद लब
आजाद लब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आस्था
आस्था
Adha Deshwal
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अछूत....
अछूत....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बहारें तो आज भी आती हैं
बहारें तो आज भी आती हैं
Ritu Asooja
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*प्रणय प्रभात*
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
Anis Shah
Loading...