Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2017 · 2 min read

विजेता

आज पृष्ठ संख्या तीन पढ़िए। विजेता उपन्यास को अगर आपने शुरू से नहीं पढ़ा तो आप इस अनूठी कहानी का लुत्फ नहीं उठा पाएँगे। इसलिए हर रोज पढ़िए।
“मैं ईब समझी असली मकसद। थाहम स्याणे-सपटों के धोरै जाओ सो। किसे बाबा ने बताया होगा के कन्या पै टूणा-टोटका कर दियो। थाहमनै सरम ना आती?अपणे भाई का सब कुछ लूट लिया और ईब गोलू की कोख भी लूटणा चाहो सो।”
यह सुनते ही शमशेर आत्म-ग्लानि से भर गया। अपनी भाभी की तरफ घृणित दृष्टि डालकर वह बोला,”थूकता हूँ मैं तेरी घटिया सोच पै।जो मन्नै न्यू बेरा होंदा के तूं भीतर तैं इतणी बेईमान और घटिया लुगाई सै, मैं अपणी भतीजी नै बुलावण ना आता।”
शमशेर ने यह सपने में भी नहीं सोचा था कि उसकी भाभी उस पर इतणा घटिया इल्जाम भी लगा सकती है।
अपनी नम आँखों को छुपाने की कोशिश करते हुए वह अपने भाई के घर से बाहर निकल गया।उसके जाते ही भाभी पहले से भी ऊँचे स्वर में बोलने लगी,”अपणी सगी भतीजी पै टूणे-टोटके करण चाल पड़्या यो पापी।इसे कसाई नै तो ऊपरवाला सात जलम भी ऊलाद ना देवै। हमनै तो वो इसे कसाई की परछाई तैं भी दूर—–।”
वह बोले जा रही थी और कुछ पड़ौसी उसकी बकवास को यूं ध्यान-कान लगाकर सुन रहे थे मानों किसी संत महात्मा के प्रवचन चल रहे हों।
शमशेर का घर अपने भाई से काफी दूर था। इसलिए बाला को झगड़े के बारे में कुछ भी पता नहीं था।वह मालपूए बनाते-बनाते सोच रही थी,”जो होग्या,सो होग्या।ईब हम दुराणी- जेठाणी मिलके रहवैंगे। वा बड्डी- स्याणी सै,मैं उसका कहा मानूंगी। वा दिल की बुरी ना सै। बस जुबान की थोड़ी कड़वी सै। उसकी आतमा साफ सै। वा म्हारा बुरा थोड़़ा चाहवैगी! जेठ जी भी अपणे छोटे भाई तैें कितणा प्यार करै सैं। ज्यब न्यारे होये थे तो क्यूकर बालक की तरियाँ रोवैं थे।न्यारा तो सारा देश होवै सै पर न्यारे होके भी एक होके रहा जा सकै सै, या बात हम दिखावैंगे गाम नै।भाई के तो भाई ही काम आया करै। मैं आज सकरांत के दिन मना ल्यूंगी अपणे जेठ-जेठाणी—–।”
“बाला!” अपणे पति के मुँह से अपना नाम सुनते ही बाला की विचार-श्रंखला टूट गई। हमेशा भाग्यवान नाम से पुकारने वाला पति उसे उसके असली नाम से पुकार बैठा! वह हैरान हो बोली,”थाहमनै मेरा नाम लिया?”
“मालपूड़े बणगे भाग्यवान?”
“हाँ बणगे। मन्नै घणे बणा दिये। गोलू के हाथ जेठ-जेठाणी खात्तर भी भेज दूँगी।”
अपनी पत्नी के मुँह से यह बात सुनकर शमशेर चुपचाप अंदर जाकर बैठ गया।

Language: Hindi
1 Like · 251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
' समय का महत्व '
' समय का महत्व '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
किसी भी रूप में ढ़ालो ढ़लेगा प्यार से झुककर
आर.एस. 'प्रीतम'
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
बहुत कुछ बदल गया है
बहुत कुछ बदल गया है
Davina Amar Thakral
रे मन
रे मन
Dr. Meenakshi Sharma
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
Ranjeet kumar patre
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
■ काम की बात
■ काम की बात
*Author प्रणय प्रभात*
इज़्ज़त
इज़्ज़त
Jogendar singh
सारथी
सारथी
लक्ष्मी सिंह
*पश्चाताप*
*पश्चाताप*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ना जाने क्यों तुम,
ना जाने क्यों तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक " जिंदगी के मोड़ पर " : एक अध्ययन
Ravi Prakash
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
बेटियाँ
बेटियाँ
Raju Gajbhiye
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
.
.
Ms.Ankit Halke jha
3326.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3326.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
रात का आलम किसने देखा
रात का आलम किसने देखा
कवि दीपक बवेजा
"रुदाली"
Dr. Kishan tandon kranti
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
Loading...