Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

“विक्रम” उतरा चाँद पर

”विक्रम’ उतरा चाँद पर,
मगन है भारत देश।
चार चांद लगा वतन में,
गौरवान्वित परिवेश।

गौरवान्वित परिवेश,
‘प्रज्ञान’ आएगा बाहर।
परचम फहरा चाँद पर,
बात हूई जग जाहिर।

दुनिया जो न कर सकी,
कर दिया हिन्दुस्तान।
साउथ पोल पर सर्वप्रथम,
गड़ा तिरंग निशान।

युगों तक जग दुहरायेगा,
वैज्ञानिकों का काम।
प्रथम सफलता लिख दिया,
भारतवर्ष के नाम।

धरती माँ ने भेजा है,
चाँद ममा को भेंट।
प्रज्ञान चल पड़ा चन्द्रपथ,
अपनी मूंछें ऐंठ।

चन्द्र पटल कैसा बना,
जानेंगे भरपूर।
बात पुरानी हो गयी,
चंदा मामा दूर।

भूत भविष्य व आज में,
सदा रही है शान।
तभी तो सब कहते यही,
भारत देश महान।

महेनत सफल हुई सकल,
छ सौ करोड़ हुए दार।
इसरो ने दिया देश को,
एक अद्भुत उपहार।

बहुत बधाई देश को
“इसरो दल” को विशेष।
विक्रम उतरा चाँद पर,
मगन है भारत देश।

सतीश सृजन
23अगस्त23
18:05 बजे।

2 Likes · 2 Comments · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
"सौन्दर्य"
Dr. Kishan tandon kranti
चींटी रानी
चींटी रानी
Manu Vashistha
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
Vishal babu (vishu)
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
पैसा
पैसा
Sanjay ' शून्य'
💐Prodigy Love-21💐
💐Prodigy Love-21💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
किसी से उम्मीद
किसी से उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
2805. *पूर्णिका*
2805. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
surenderpal vaidya
यह मन
यह मन
gurudeenverma198
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
गारंटी सिर्फ़ प्राकृतिक और संवैधानिक
Mahender Singh
*भारत माता को नमन, अभिनंदन शत बार (कुंडलिया)*
*भारत माता को नमन, अभिनंदन शत बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विकटता और मित्रता
विकटता और मित्रता
Astuti Kumari
ना फूल मेरी क़ब्र पे
ना फूल मेरी क़ब्र पे
Shweta Soni
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
बहुत से लोग तो तस्वीरों में ही उलझ जाते हैं ,उन्हें कहाँ होश
DrLakshman Jha Parimal
Is ret bhari tufano me
Is ret bhari tufano me
Sakshi Tripathi
नरक और स्वर्ग
नरक और स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🪷पुष्प🪷
🪷पुष्प🪷
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Pyasa ke dohe (vishwas)
Pyasa ke dohe (vishwas)
Vijay kumar Pandey
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
न चाहे युद्ध वही तो बुद्ध है।
न चाहे युद्ध वही तो बुद्ध है।
Buddha Prakash
गीत गाने आयेंगे
गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
ओझल मनुआ मोय
ओझल मनुआ मोय
श्रीहर्ष आचार्य
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
Mahendra Narayan
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
Loading...