Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2016 · 1 min read

विकास

विकास का प्रतीक इक शहर,
गन्दगी में फँसा,
रो रहा था l
क्योंकि, कई वर्षों से वहाँ,
किसी मन्त्री का दौरा,
नहीं हो रहा था l
आखिरकार,
चमके उस शहर के सितारे,
और, एक मन्त्री जी,
निरीक्षण हेतु पधारे l
अब सम्बंधित विभागों को,
सफ़ाई-सज्जा के अतिरिक्त,
कोई और काम न था l
अजी, गन्दगी का तो,
अब नामोनिशान भी न था l
मन्त्री जी का दौरा,
समाप्त हो गया है l
और, यह शहर,
अगले दौरे की प्रतीक्षा में,
खो गया है l

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

-राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ. प्र.)
मो. 8941912642

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 301 Views
You may also like:
ऊपज
Mahender Singh Hans
मौन
अमरेश मिश्र 'सरल'
नूर
Alok Saxena
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
स्वाधीनता आंदोलन में, मातृशक्ति ने परचम लहराया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
'अशांत' शेखर
गुरु महान है।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मन की बात
Rashmi Sanjay
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सम्भल कर चलना ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई तो जाके उसे मेरे दिल का हाल समझाये...!!
Ravi Malviya
गुदड़ी के लाल
Shekhar Chandra Mitra
श्री रामनामी दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
अपनी क़ीमत कोई नहीं
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
ये दिल
shabina. Naaz
घडी़ की टिक-टिक⏱️⏱️
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*गगन में चौथ के भी चंद्र का टुकड़ा जरा कम...
Ravi Prakash
मत्तगयंद सवैया छंद
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अल्फाज़ हैं शिफा से।
Taj Mohammad
The Deep Ocean
Buddha Prakash
" सब्र बचपन का"
Dr Meenu Poonia
Loading...