Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

विकसित भारत का लक्ष्य India@2047 । अभिषेक श्रीवास्तव ‘शिवा’

हमारा लक्ष्य है अब यह, उठे इस देश का जवान
स्वयं ही उठकर बनाना है,दुनिया में अब पहचान

वृक्ष के समान ही, निश्छल भाव रख डटे रहें सदा
बनें सबका हम मरहम, लिया है मन में यह ठान

जोश भरें ओज भरें, सभी युवाओं को तैयार करें
सजाना है सभी जन को, अब वसुंधरा का उद्यान

जो खंडहर हुए जा रही है धरा, उसे भी बचाना है
देश के लिए तत्पर रहा,अनाज उगाता हर किसान

जो कभी भी झुके नहीं, मंजिल से पहले रुके नहीं
भुला ना सकेगा देश, उन देशभक्तों का बलिदान

अग्निपथ पर भी चल पड़े हैं, देश के कई वीर यहां
देश को बनाना है हमें,अब सारे जग का गुलिस्तान

सुनो आप इसको भी, ‘शिवा’ कहता है यह बात
सारे जहाॅं से न्यारा है, ये हमारा प्यारा हिन्दुस्तान

हमारा लक्ष्य है अब यह, उठे इस देश का जवान
स्वयं ही उठकर बनाना है, दुनिया में अब पहचान
जय हिन्द जय भारत

©अभिषेक श्रीवास्तव “शिवाजी”
अनूपपुर मध्यप्रदेश

2 Likes · 2454 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
🐍भुजंगी छंद🐍 विधान~ [यगण यगण यगण+लघु गुरु] ( 122 122 122 12 11वर्ण,,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]
🐍भुजंगी छंद🐍 विधान~ [यगण यगण यगण+लघु गुरु] ( 122 122 122 12 11वर्ण,,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]
Neelam Sharma
फूल बेजुबान नहीं होते
फूल बेजुबान नहीं होते
VINOD CHAUHAN
कुश्ती दंगल
कुश्ती दंगल
मनोज कर्ण
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पहाड़ी नदी सी
पहाड़ी नदी सी
Dr.Priya Soni Khare
■ लघुकथा...
■ लघुकथा...
*Author प्रणय प्रभात*
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
gurudeenverma198
महिमा है सतनाम की
महिमा है सतनाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
Ravi Prakash
"पृथ्वी"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
कितनी प्यारी प्रकृति
कितनी प्यारी प्रकृति
जगदीश लववंशी
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कुराना जरूरी है
मुस्कुराना जरूरी है
Mamta Rani
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
shabina. Naaz
*****राम नाम*****
*****राम नाम*****
Kavita Chouhan
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
कौशल
कौशल
Dinesh Kumar Gangwar
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
विकृत संस्कार पनपती बीज
विकृत संस्कार पनपती बीज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"कुछ खास हुआ"
Lohit Tamta
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
Khaimsingh Saini
2693.*पूर्णिका*
2693.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं
मैं
Dr.Pratibha Prakash
Loading...