Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

वाह वाह क्या बात….छंद कुण्डलिया.

___________________________________
लड़ते हैं गोमांस पर, भक्षक, श्वान सियार.
गिरफ्तार रक्षक करे, भ्रमित वही सरकार?
भ्रमित वही सरकार, ‘बीफ’ दे जिसे सहारा.
इसको पशु-बलि मान, नही सद्भावी धारा.
देख पाशविक कृत्य, शर्म से मानव गड़ते.
ओढ़ सेक्युलर खाल, भ्रात जब पशुवत लड़ते..
____________________________________
कहलाते है बौद्धिक, जग में हैं विख्यात.
पुरस्कार लौटा रहे, वाह वाह क्या बात.
वाह वाह क्या बात, भावना प्रेम पगी है.
मित्र भले निष्णात, लेखनी जंग लगी है.
दीन-दुखी को देख, घाव मन के सहलाते.
दिल से लिखते दर्द, बौद्धिक तब कहलाते..
____________________________________
जल-दोहन अब मत करें, नहीं चलेगें पम्प.
नित्य हो रही फाल्ट है, जिससे हों भूकम्प.
जिससे हों भूकम्प, झेल पायेगें कैसे.
सावधान हों मित्र, खेल खेलें मत ऐसे.
रिमझिम हो बरसात, मुदित होते मनमोहन.
जल संचय हो नित्य, भूलिए भू जल-दोहन..
____________________________________
–इन्जी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’
____________________________________

245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
इश्क़ जोड़ता है तोड़ता नहीं
इश्क़ जोड़ता है तोड़ता नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निजी विद्यालयों का हाल
निजी विद्यालयों का हाल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
कभी भी ग़म के अँधेरों  से तुम नहीं डरना
कभी भी ग़म के अँधेरों से तुम नहीं डरना
Dr Archana Gupta
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
💐उन्होंने हाथ बढ़ाया ही नहीं कभी💐
💐उन्होंने हाथ बढ़ाया ही नहीं कभी💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
World News
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"रंग वही लगाओ रे"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
निर्धन बिलखे भूख से, कौर न आए हाथ।
निर्धन बिलखे भूख से, कौर न आए हाथ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
'अशांत' शेखर
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
★ IPS KAMAL THAKUR ★
वाह रे जमाना
वाह रे जमाना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ और क्या बोलें.....?
■ और क्या बोलें.....?
*Author प्रणय प्रभात*
काली सी बदरिया छाई रे
काली सी बदरिया छाई रे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
2616.पूर्णिका
2616.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...