Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 6, 2016 · 1 min read

वाह वाह क्या बात….छंद कुण्डलिया.

___________________________________
लड़ते हैं गोमांस पर, भक्षक, श्वान सियार.
गिरफ्तार रक्षक करे, भ्रमित वही सरकार?
भ्रमित वही सरकार, ‘बीफ’ दे जिसे सहारा.
इसको पशु-बलि मान, नही सद्भावी धारा.
देख पाशविक कृत्य, शर्म से मानव गड़ते.
ओढ़ सेक्युलर खाल, भ्रात जब पशुवत लड़ते..
____________________________________
कहलाते है बौद्धिक, जग में हैं विख्यात.
पुरस्कार लौटा रहे, वाह वाह क्या बात.
वाह वाह क्या बात, भावना प्रेम पगी है.
मित्र भले निष्णात, लेखनी जंग लगी है.
दीन-दुखी को देख, घाव मन के सहलाते.
दिल से लिखते दर्द, बौद्धिक तब कहलाते..
____________________________________
जल-दोहन अब मत करें, नहीं चलेगें पम्प.
नित्य हो रही फाल्ट है, जिससे हों भूकम्प.
जिससे हों भूकम्प, झेल पायेगें कैसे.
सावधान हों मित्र, खेल खेलें मत ऐसे.
रिमझिम हो बरसात, मुदित होते मनमोहन.
जल संचय हो नित्य, भूलिए भू जल-दोहन..
____________________________________
–इन्जी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’
____________________________________

146 Views
You may also like:
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
कारस्तानी
Alok Saxena
लड़ते रहो
Vivek Pandey
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
फरिश्ता बन गए हो।
Taj Mohammad
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
पिता का दर्द
Anamika Singh
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
बुध्द गीत
Buddha Prakash
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
होली
AMRESH KUMAR VERMA
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
बुलंद सोच
Dr. Alpa H. Amin
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
सब खुदा हो गये
"अशांत" शेखर
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
जग
AMRESH KUMAR VERMA
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
देश के हालात
Shekhar Chandra Mitra
Loading...