Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2023 · 1 min read

वाह-वाह क्या दाँत (हास्य कुंडलिया)

वाह-वाह क्या दाँत (हास्य कुंडलिया)
________________________________
गिरते – गिरते गिर गए ,बत्तिस दाँत तमाम
खाने लायक मुँह बचा ,सिर्फ पिलपिले आम
सिर्फ पिलपिले आम ,पोपला मुख जब पाया
बत्तीसी का सेट , एक नकली लगवाया
कहते रवि कविराय ,युवा अब होकर फिरते
देते मधु – मुस्कान , बिजलियाँ बनकर गिरते
_______________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
তার চেয়ে বেশি
তার চেয়ে বেশি
Otteri Selvakumar
जीवन है चलने का नाम
जीवन है चलने का नाम
Ram Krishan Rastogi
देखी देखा कवि बन गया।
देखी देखा कवि बन गया।
Satish Srijan
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
अपनी अपनी मंजिलें हैं
अपनी अपनी मंजिलें हैं
Surinder blackpen
झूठा घमंड
झूठा घमंड
Shekhar Chandra Mitra
सूखी टहनियों को सजा कर
सूखी टहनियों को सजा कर
Harminder Kaur
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
प्रारब्ध भोगना है,
प्रारब्ध भोगना है,
Sanjay ' शून्य'
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
बने महब्बत में आह आँसू
बने महब्बत में आह आँसू
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
मेरे बस्ती के दीवारों पर
मेरे बस्ती के दीवारों पर
'अशांत' शेखर
Kavita
Kavita
shahab uddin shah kannauji
19)”माघी त्योहार”
19)”माघी त्योहार”
Sapna Arora
"दबंग झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
sushil sarna
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बुरा न मानो होली है (हास्य व्यंग्य)
बुरा न मानो होली है (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...