Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2019 · 1 min read

वादा

___________वादा____________

वो वादों पे वादा किए जा रहे हैं!
हम फिर भी इन्हें वोट दिए जा रहे हैं!!

न सूरत दिखाते इलैकशन के बाद,
ये जनता को धोखा दिए जा रहे हैं!

देश की हालत की बदतर इन्होंने,
ये नए नए घोटाले किए जा रहे हैं!

कहें सियासत में हैं देश सेवा लिए,
जो देश की सेवा लिए जा रहें हैं!

आज कुर्सी ही इनका है दीनो धर्म,
बिन कुर्सी ये बेचैन जिए जा रहे हैं!

सिल्ला कमी नही काले अँगरेजों की,
गुलामी मे साँस हम लिए जा रहे हैं!

-विनोद सिल्‍ला©

Language: Hindi
392 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
पूर्वार्थ
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
"बँटबारे का दंश"
Dr. Kishan tandon kranti
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
प्रारब्ध का सत्य
प्रारब्ध का सत्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
टूटेगा एतबार
टूटेगा एतबार
Dr fauzia Naseem shad
■ कृष्ण_पक्ष
■ कृष्ण_पक्ष
*प्रणय प्रभात*
" बेशुमार दौलत "
Chunnu Lal Gupta
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोस्तों
दोस्तों
Sunil Maheshwari
शुक्र मनाओ आप
शुक्र मनाओ आप
शेखर सिंह
बीते लम़्हे
बीते लम़्हे
Shyam Sundar Subramanian
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
कविता
कविता
Shweta Soni
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
SPK Sachin Lodhi
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मिर्जा पंडित
मिर्जा पंडित
Harish Chandra Pande
जीवन में...
जीवन में...
ओंकार मिश्र
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
*....आज का दिन*
*....आज का दिन*
Naushaba Suriya
"The Power of Orange"
Manisha Manjari
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
निभाना नही आया
निभाना नही आया
Anil chobisa
Loading...