Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

वाणी से उबल रहा पाणि💪

वाणी से उबल रहा पाणि👉👈
👈👉🌷🥀🌵✈️🌿🙏

पानी उबल रहा वाणी में
दिल में आग वाणी में पानी

चूल्हे उबाल रहा चाय पानी
गम पी पी कर जी रहे ज्ञानी

जन-जन की यही कहानी
चाहत इच्छा की है मनमानी

आहत हो गम से जीते ज्ञानी
उबल रहे चाय और पानी

किसके पास है समय कहां
जो तेरी सुनते कहानी वाणी

निज को अभिमानी महाज्ञानी
समझ ये न बुझते समझे औरों

की सुनते ही नही शांति वाणी
रिपु हुंकार उबाल रहा पाणि

जग जन सुन कहानी वाणी
समय नहीं जो सुनी जानी

चूल्हे पर उबल रहा पानी
कैसे चाय पकेगी जगज्ञानी

मर्म समझो जन अरमानी
तन खड़ा दिल में आग कंधे

अंगार हुंकार भरा है वीर वाणी
अम्बर भरा पड़ा बारूद वारिद

सरहद की सीमा पर फड़क
फुफकार रहा विष भरा सहत्र

अस्त्र शस्त्र वीर वाणी पाणि
वर्फ गड़े जवानों के बम्बू बीच

तम्बू मे उबल रहा चाय व पानी
सर से जब पानी गुजर जाता है

शांति समझौता की रेखा जब
बदला जाता तब खून भरे पाणि

क्रांति भ्रांति रूप लेता वीर वाणी
उफ़ान भरने लगता चाय व पानी

ललकार अंगार उगलने लगता
बर्फ भी वम बर्षा करता ये पाणि

घबरा दुश्मन घुटने टेक बैठ कर
प्राणों की भीख मांगता रहता

कदम कंधे नीचे शिर पर पाणि
पी नहीं पाते फिर से ये भीरू
तम्बू में उबले चाय और पानी

🚁🤼✈️🌵🌿🌿🙏🌷

तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
1 Like · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
सुकरात के मुरीद
सुकरात के मुरीद
Shekhar Chandra Mitra
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sakshi Tripathi
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
श्रीमान - श्रीमती
श्रीमान - श्रीमती
Kanchan Khanna
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
Rj Anand Prajapati
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
रुख़्सत
रुख़्सत
Shyam Sundar Subramanian
सहारा...
सहारा...
Naushaba Suriya
लाल फूल गवाह है
लाल फूल गवाह है
Surinder blackpen
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
*मौत आग का दरिया*
*मौत आग का दरिया*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
बेटियाँ
बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
धरती पर स्वर्ग
धरती पर स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नैह
नैह
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं मधुर भाषा हिन्दी
मैं मधुर भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मन में सदैव अपने
मन में सदैव अपने
Dr fauzia Naseem shad
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो
gurudeenverma198
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
🙅एक शोध🙅
🙅एक शोध🙅
*Author प्रणय प्रभात*
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...