Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2024 · 1 min read

वह एक हीं फूल है

वह एक हीं फूल है
जो देवता पर
गिरने के बाद
चढ़ाया जाता है,
जो गिरने के बाद
देवता को और प्रिय हो जाता है,
हे मेरे देव!
क्या अपनाओगे मुझे भी
तुम
इस तरह,
मैं
भी होना चाहती हूँ
वही,,,,,,हरसिंगार !!!

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
वो और राजनीति
वो और राजनीति
Sanjay ' शून्य'
Suno
Suno
पूर्वार्थ
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
*** कुछ पल अपनों के साथ....! ***
VEDANTA PATEL
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
मुदा एहि
मुदा एहि "डिजिटल मित्रक सैन्य संगठन" मे दीप ल क' ताकब तथापि
DrLakshman Jha Parimal
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
जहरीले धूप में (कविता )
जहरीले धूप में (कविता )
Ghanshyam Poddar
मीना
मीना
Shweta Soni
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
Khaimsingh Saini
मक्खन बाजी
मक्खन बाजी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
गोस्वामी तुलसीदास
गोस्वामी तुलसीदास
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
bhandari lokesh
समाप्त हो गई परीक्षा
समाप्त हो गई परीक्षा
Vansh Agarwal
दुआ किसी को अगर देती है
दुआ किसी को अगर देती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कुछ पाने के लिए
कुछ पाने के लिए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
..
..
*Author प्रणय प्रभात*
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
आकाश महेशपुरी
!! कुछ दिन और !!
!! कुछ दिन और !!
Chunnu Lal Gupta
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
The Day I Wore My Mother's Saree!
The Day I Wore My Mother's Saree!
R. H. SRIDEVI
*अन्नप्राशन संस्कार और मुंडन संस्कार*
*अन्नप्राशन संस्कार और मुंडन संस्कार*
Ravi Prakash
3451🌷 *पूर्णिका* 🌷
3451🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
Loading...