Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

वही खुला आँगन चाहिए

वही खुला आँगन चाहिए ,
जिसमे आती थी सुनहरी धूप ।
हम खेला करते थे मिलकर,
कोई चोर बनता था कोई भूप।।

फुदकती थी गौरैया रानी,
कौआ करता था काँव काँव
वही खुला आँगन चाहिए,
जिसमे थी ममता की छाँव।।

नित भोर रवि देता था दर्शन,
नीला नीला दिखता था आसमान।
रिम झिम बारिश होती थी,
सुनते थे कोयल की मीठी गान।।

कहां गए वो सुनहरे दिन,
भरे रहते थे अपनों से घर।
मोहल्ले में बच्चों का शोर,
खुशियां मिलती थी झोली भर।।

आजकल सुविधाएं बढ़ी,
और छिन गया सुख चैन।
वही खुला आँगन चाहिए,
देखने को तरसते यह नैन।।

Language: Hindi
344 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
राम से बड़ा राम का नाम
राम से बड़ा राम का नाम
Anil chobisa
"दयानत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
शराब
शराब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कानून?
कानून?
nagarsumit326
* पहचान की *
* पहचान की *
surenderpal vaidya
जो खत हीर को रांझा जैसे न होंगे।
जो खत हीर को रांझा जैसे न होंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
बीता हुआ कल वापस नहीं आता
Anamika Tiwari 'annpurna '
अंजान बनकर चल दिए
अंजान बनकर चल दिए
VINOD CHAUHAN
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
इस तरह कुछ लोग हमसे
इस तरह कुछ लोग हमसे
Anis Shah
*कभी बरसात है (घनाक्षरी)*
*कभी बरसात है (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
"शून्य"
Dr. Kishan tandon kranti
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जाने कहा गये वो लोग
जाने कहा गये वो लोग
Abasaheb Sarjerao Mhaske
बचपन का मौसम
बचपन का मौसम
Meera Thakur
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
★किसान ए हिंदुस्तान★
★किसान ए हिंदुस्तान★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बरसात
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
झूठों की मंडी लगी, झूठ बिके दिन-रात।
झूठों की मंडी लगी, झूठ बिके दिन-रात।
Arvind trivedi
49....Ramal musaddas mahzuuf
49....Ramal musaddas mahzuuf
sushil yadav
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
ज़िंदगी में जब भी कुछ अच्छा करना हो तो बस शादी कर लेना,
ज़िंदगी में जब भी कुछ अच्छा करना हो तो बस शादी कर लेना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
व्यर्थ है मेरे वो सारे श्रृंगार,
व्यर्थ है मेरे वो सारे श्रृंगार,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हँस रहे थे कल तलक जो...
हँस रहे थे कल तलक जो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
Mahender Singh
Loading...