Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2023 · 1 min read

वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।

वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
केवल कृषक मसीहा होता सुन लो बात खजाने की।
राजा जाति कृषक थी भारत शेष प्रजा जन होते थे।
इसी कृषक की जिम्मेदारी सबका पेट चलाने की।।

सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर ‘

1 Like · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
View all
You may also like:
होली पर बस एक गिला।
होली पर बस एक गिला।
सत्य कुमार प्रेमी
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
तू भी इसां कहलाएगा
तू भी इसां कहलाएगा
Dinesh Kumar Gangwar
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
Yogendra Chaturwedi
The Lost Umbrella
The Lost Umbrella
R. H. SRIDEVI
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
धार में सम्माहित हूं
धार में सम्माहित हूं
AMRESH KUMAR VERMA
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का दूसरा वर्ष (1960 - 61)*
Ravi Prakash
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
bharat gehlot
"शख्सियत"
Dr. Kishan tandon kranti
जहाँ खुदा है
जहाँ खुदा है
शेखर सिंह
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
2829. *पूर्णिका*
2829. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
sushil sarna
लगाव
लगाव
Arvina
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*देना इतना आसान नहीं है*
*देना इतना आसान नहीं है*
Seema Verma
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
जिंदगी एक सफर
जिंदगी एक सफर
Neeraj Agarwal
वो क़ुदरत का दिया हुआ है,
वो क़ुदरत का दिया हुआ है,
*प्रणय प्रभात*
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
Loading...