Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

वसन्त का स्वागत है vasant kaa swagat hai

**वसन्त का स्वागत है**

टेसू गुलाब खिले, बेला के आवन से,
गलियन में झांझ बजे, पञ्चम गीत गाती है।
गाछ पर रसालों के भ्रमर गुॅजार करे ,
लपक रही मालती, चम्पा मन भाती है।।

आवत वसन्त गीत मीत मिलें भावन से
शीतल सुखद वारि तन को सिहराती है।
खिले पलास वन,हिय में उमंग भरे,
जैसे वन मालिनी आसन सजाती है।।

विहॅसत कचनार , मधुप धुन गावन से
बाजत मृदंग थाप,मन को लुभाती है।
आगत के स्वागत में पुष्पों के गुच्छ झरे
वासंती रंग में नहायी यहाॅ धरती है ।।

**मोहन पाण्डेय ‘भ्रमर ‘
**चैत्र कृष्ण,प्रतिपद
दिनांक २६मार्च २०२४
चित्र साभार फेसबुक वाल से

2 Likes · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
चंदा मामा ! अब तुम हमारे हुए ..
चंदा मामा ! अब तुम हमारे हुए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
पर्यावरण
पर्यावरण
नवीन जोशी 'नवल'
सुंदर नाता
सुंदर नाता
Dr.Priya Soni Khare
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
R J Meditation Centre
R J Meditation Centre
Ravikesh Jha
2360.पूर्णिका
2360.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मीठे बोल या मीठा जहर
मीठे बोल या मीठा जहर
विजय कुमार अग्रवाल
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Never settle for less than you deserve.
Never settle for less than you deserve.
पूर्वार्थ
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
आज़ादी के बाद भारत में हुए 5 सबसे बड़े भीषण रेल दुर्घटना
Shakil Alam
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
लक्ष्मी सिंह
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
gurudeenverma198
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
Ravi Prakash
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
लक्ष्मी
लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
तेरी धड़कन मेरे गीत
तेरी धड़कन मेरे गीत
Prakash Chandra
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
Manoj Mahato
जो चीजे शांत होती हैं
जो चीजे शांत होती हैं
ruby kumari
Loading...